बुजुर्गों के मार्गदर्शन में युवाओं को समाज उत्थान के लिए कार्य करने की जरूरत : रंजना साहू

54

धमतरी| धमतरी विधानसभा क्षेत्र के ग्राम धौराभाठा में आदिवासी गोंड समाज के सामुदायिक भवन का लोकार्पण मकर सक्रांति के पावन अवसर पर किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक रंजना डीपेंद्र साहू एवं अध्यक्षता जीवराखन लाल मरई अध्यक्ष सर्व आदिवासी समाज धमतरी ने किया।

विधायक श्रीमती साहू ने भगवान बुढ़ा देव की पूजा अर्चना कर, भवन का लोकार्पण करने के उपरांत कहा कि आदिवासी समाज के लोगों का जुड़ाव प्रकृति से अद्भुत है, हम सब को एकजुट होकर समाज में कार्य करने की जरूरत है, समाज की एकता ही हमें नई पहचान दिलाईगी। संगठित समाज ही विकास की राह पर आगे बढ़ता है, समाज के बुजुर्गों के मार्गदर्शन में युवाओं को समाज उत्थान के लिए कार्य करने की जरूरत है।

विधायक रंजना साहू ने कहा कि आज मुझे बहुत खुशी का अनुभव हो रहा है, कि आदिवासी समाज के लिए बने सामुदायिक भवन का लोकार्पण का सौभाग्य मुझे मिला है। समुदायिक भवन में समाजजन आपस में बैठकर विचार कर सकेंगे, सुख-दुख में बैठ सकेंगे और समाज को विकास की दिशा में आगे बढ़ाने को लेकर विचार विमर्श कर सकेंगे। नगरी जनपद पंचायत अध्यक्ष दिनेश्वरी नेताम ने कहा कि आज हमारा आदिवासी समाज छत्तीसगढ़ प्रदेश में विकास के नए आयाम लिख रहे हैं शिक्षा, खेलकूद के साथ साथ विभिन्न विधाओं में समाज का नाम रोशन कर रहे हैं।

जिला पंचायत सदस्य दमयंती केशव साहू ने विधायक जी द्वारा किए गए कार्यों का वर्णन करते हुए हैं विधानसभा क्षेत्र में विकास के साथ गांव गांव में सभी समाज को विभिन्न निर्माण कार्यों का सौगात विधायक जी द्वारा दी जा रही है, मैं क्षेत्र का जिला सदस्य होने के नाते विधायक जी का आभार व्यक्त करती हूं। कार्यक्रम में जीवराखन मरई एवं श्यामलाल नेताम ने भी सभा को संबोधित कर समाज को शिक्षा और युवाओं को अपने नैतिक जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए आगे बढ़ने को प्रोत्साहित किए। विधायक श्रीमती साहू के ग्राम धौराभाठा पहुंचने पर लोगों ने छत्तीसगढ़ की पारंपरिक रीति रिवाज आरती उतार कर बाजे-गाजे के साथ स्वागत किये।

ग्राम सरपंच किरण मुरली सिन्हा, उपसरपंच रामनाथ ध्रुव, समाज जनों, ग्रामीण वरिष्ठ, एवं सभी ग्राम वासियों ने स्वागत किया। इस कार्यक्रम में महेंद्र नेताम, कमलनारायण ध्रुव, योगेश बाबर, जगतराम कुंजाम, आरती कुंजाम, पूर्णिमा ध्रूव, अमृता मंडावी, दयाबती मेश्राम, वर्षा कुंजाम, रामकृष्ण ध्रुव, विक्रम नेताम, अवधराम शोरी, रामगोपाल नेटी, संतराम छेदैहा, पुरुषोत्तम मंडावी, ज्ञानी मरकाम, शिव नेताम, कुंजाम, लीलाराम, तारण नागवंशी, शेष नारायण ध्रुव, लक्ष्मीनारायण ध्रुव, रामेश्वर नेताम, रामाधीन मंडावी, गिरधर मंडावी, बहुर सिंह मरकाम, उदय नेताम, गजानन ध्रुव, सहित बड़ी संख्या में आदिवासी समाज के लोग व ग्रामवासी उपस्थित रहे।

tushar