जनसेवा सर्वोपरि यही हमारा आदर्श और उद्देश्य है- प्रीतेश गांधी

121

धमतरी |भारतीय जनता पार्टी केंद्र और प्रदेश के आह्वान पर “सेवा ही संगठन” अभियान के तहत भाजपा कार्यकर्ता, पदाधिकारी एवं प्रतिनिधि निःस्वार्थ भाव से जनता की सेवा में प्रयासरत है. देश और प्रदेश के प्रत्येक छोर तक पहुँचकर जरूरतमंदों की सहायता की जा रही है. कोरोना महामारी के दौरान भी अपनी सेवाएं जन तक पहुँचा कर लोगों की सुविधा को आश्वस्त किया जा रहा है. इस अभियान के अंतर्गत टीकाकरण जागरूकता, कोरोना राहत सामग्री वितरण, अनाज वितरण जैसे अन्य नेक कार्य किए जा रहें हैं. छत्तीसगढ़ प्रदेश में भी इस अभियान द्वारा निरन्तर जनता की सेवा की जा रही है.

इसी कड़ी में 30 जून बुधवार को प्रीतेश गांधी विशेष आमंत्रित सदस्य भाजपा छत्तीसगढ़ ने सेवा ही संगठन अभियान के तहत जिला धमतरी के ग्राम आमदी की निवासी श्रीमती टिकेश्वरी यादव को गैस-चूल्हा दिया. उक्त अवसर पर श्री रामू रोहरा जी प्रदेश विशेष आमंत्रित सदस्य भाजपा, श्री डीपेंद्र साहू जी, श्री उमेश साहू जी, श्री भूपेश शाह जी एवं श्री हरी पटेल जी मुख्य रूप से उपस्थित रहें. प्रीतेश गांधी ने कहा कि जरूरतमंदों की सहायता करना ही हमारा उद्देश्य और आदर्श है. ईंधन से भोजन बनाने में वायु प्रदूषण के साथ-साथ महिलाओं को परेशानी का सामना भी करना पड़ता है. हर परिवार के पास गैस-चूल्हा प्राथमिक रूप से उपलब्ध हो और उन्हें रोजमर्रा जीवन में भोजन बनाने हेतु किसी भी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े, इसी सोच से मैंने टिकेश्वरी जी के परिवार की सहायता की और यह मेरा सौभाग्य है कि मेरी छोटी सी कोशिश किसी के काम आ सकी.

आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने सदैव जनसेवा को प्राथमिकता दिया है. उनके इसी प्रयास को आज सेवा ही संगठन कार्यक्रम के माध्यम से आगे बढ़ाने में अपनी भूमिका निभाने का मुझे अवसर मिला. मेरे द्वारा इस छोटे से प्रयास से गैस-चूल्हे के कनेक्शन से लाभान्वित परिवार को खाना बनाने में सुविधा होगी इसके साथ ही उन्हें चूल्हे के धुएं से आज़ादी मिलेगी.

भाजपा द्वारा संचालित अभियान “सेवा ही संगठन” का एकमात्र उद्देश्य जनसेवा में प्रयासरत रह कर लोगों की सहायता करना है. गरीबों और जरूरतमंदों को अनाज उपलब्ध कराने से लेकर कोरोना जागरूकता, मास्क सैनिटाइजर वितरण करने और जनता की आवश्यकता एवं सुरक्षा सुनिश्चित करने का प्रयास के दायित्व को निभाने में मुझे अत्यंत प्रसन्नता होगी, जनसेवा ही सर्वोपरि है और हम आगे भी इसी तरह जरूरतमंदों की मदद करते रहेंगे.