ग्राम तरसीवां में हुआ 99.6 प्रतिशत वैक्सिनेशन ग्रामीणों ने जताया टीका पर भरोसा

234

मैदानी अमले ने डोर-टू-डोर जाकर किया टीकाकरण, बाद में ग्रामीणों ने स्वस्फूर्त कराया
धमतरी| जिले में कोविड-19 के संक्रमण से बचने के लिए सघन टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। जिले में अनेक ऐसे ग्राम भी हैं, जहां के लगभग शत-प्रतिशत लोगों ने वैक्सिनेशन पर भरोसा जताया और स्वस्फूर्त होकर टीका लगवाया। धमतरी विकासखण्ड के ग्राम तरसीवां में भी लोगों ने 99.6 प्रतिशत लोगों ने टीका लगवाकर खुद को जागरूक व शिक्षित होने का परिचय दिया।


कलेक्टर  मौर्य के निर्देशानुसार 45 साल से अधिक आयु वाले लोगों का वैक्सिनेशन 30 अप्रैल तक पूर्ण करने सभी ग्रामों में टीकाकरण अभियान द्रुतगति से चलाकर शेष बचे हुए लोगों को प्रेरित व प्रोत्साहित किया जा रहा है। बताया गया है कि धमतरी ब्लाॅक के ग्राम पंचायत तरसीवां में 45 साल से ऊपर आयु के 530 लोगों का वैक्सिनेशन के लक्ष्य के विरूद्ध आज की तिथि तक 528 लोगों को टीकाकरण किया जा चुका है, जो कि कुल लक्षित लोगों का 99.96 प्रतिशत है। आज यहां पर ग्रामीण श्रीमती चित्ररेखा गिरी, श्री रोहित, बैसाखूराम, रूखमणि, अवधराम, मनीराम सहित 23 लोगों ने टीकाकरण करा लिया है। उक्त ग्रामीणों ने बताया कि पहले उनके मन में टीके को लेकर कदाचित भय था, लेकिन लगवाने के बाद बिलकुल सामान्य स्थिति है। उन्होंने यह भी बताया कि जिन लोगों ने कुछ दिनों पहले टीकाकरण कराया था, उन्होंने भी इसको सकारात्मक व उपयुक्त बताया, जिसके बाद अब ग्रामीणों के मन में टीकाकरण को लेकर किसी तरह की भ्रांति या संशय नहीं है। इस प्रकार ग्रामीणों ने कोरोना वायरस से बचने के लिए टीकाकरण पर भरोसा जताया है। कुछ लोग स्वयं टीकाकरण केन्द्र पहुंचकर टीका लगवा रहे हैं, जबकि कुछ ऐसे वयोवृद्ध जो केन्द्र तक आने में सक्षम नहीं हैं अथवा जो इसके महत्व को समझ नहीं पा रहे हैं, उनके घर पर जाकर टीम द्वारा समझाइश देकर वैक्सिनेशन किया जा रहा है। टीकाकरण कार्य में ग्रामीण स्वास्थ्य अधिकारी, स्थानीय सरपंच-पंच, सचिव, मितानिन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहित कोटवार ने भी महती भूमिका निभाई।
मड़ईभाठा की कुमारी बाई ने कहा- सिर्फ टीके से बच सकती है जान–  धमतरी विकासखण्ड के ग्राम मड़ईभाठा में भी जोर-शोर से टीकाकरण अभियान चल रहा है। ग्राम की 72 वर्षीय बुजुर्ग पंच श्रीमती कुमारी बाई ने छत्तीसगढ़ी में कहा- ‘लोगन मन के जान अब ये टीका ले ही बांच सकथे। जब एखरे लगवाय ले कोरोना के परभाव नई परही, त जम्मो झन ला बिना डर अउ कखरो झूठ-लबारी मे आए के बजाय टीका लगवाना चाही।‘ टीका लगवाने के बाद श्रीमती कुमारी बाई ने कहा कि वे घर जाकर और लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करेंगी और उनका टीकाकरण कराने खुद केन्द्र तक लेकर आएंगी।