गौ सेवको ने किया गौ माता का अंतिम संस्कार

54

धमतरी| गांव के किसान गौमाता तो पालते हैं परंतु गौ माता की सेवा नहीं कर पाते खुद तो भोजन करते हैं परंतु गौ माता के लिए थोड़ा भी पैरा की व्यवस्था नहीं रखते और गौ माताओं को घर में बंधते नहीं और छोड़ देते हैं सड़कों पर घूमती हुई गौमाता है विलाप करती हुई उनकी आंखों से आंसू निकलते हैं और सड़कों पर खड़ा रहते हैं और कुछ घटनाओं की वजह से मृत्यु हो जाती है भाई लोग अपने घरों के आंगन में टाइल्स लगाए हुए हैं |

गौमाता पानी गिरने की वजह से उस टाइल्स के पास जाते हैं और पैर फिसल कर उनकी टांगे टूट जाती है और उनकी मृत्यु हो जाती है उनके बाद गोपाल को को बताने पर उनको सड़क किनारे फेंक दिया जाता है जिसको धर्म सेना के जिला पूर्व जिला संयोजक संजय सिन्हा गौरक्षा प्रमुख पुष्पेंद्र साहू एवं चांद कुमार सिन्हा के द्वारा गौ माता को जेसीबी लाकर खुदाई करवाकर उनको पटा गया भगवान गौ माता की आत्मा को शांति प्रदान करें और गांव वालों को से मेरा निवेदन है कि अपने गौ माताओं को घर पर रखे उनकी सेवा करें गौ माता की सेवा करने से घर में सुख समृद्धि आती हैआज अगर मनुष्य दुखी है गौ माता के अपमान न करें वह अपने गौ माताओं को घर पर रखकर अपने माता-पिता के बराबर दर्जा दे सेवा करे जय श्री राम