कोरोना से मुक्ति और देश की खुशहाली के लिए मांगी गई दुआएं, मुस्लिम भाईयों ने ईद का पर्व बड़े खुलूस और मोहब्बत के साथ मनाया

110

कोरोना से मुक्ति और देश की खुशहाली के लिए मांगी गई दुआएं…….

धमतरी. रमजान के 30 रोजे मुक्कमल करने के बाद मुस्लिम भाईयों ने ईद का पर्व बड़े खुलूस और मोहब्बत के साथ मनाया। इस मौके पर जामा मस्जिद समेत शहर की अन्य मस्जिदों में कोविड-19के नियमो का पालन करते हुए नमाजे ईद अदा की गई.कोरोना से मुक्ति और देश मे अम्न -चैन एवम खुशहाली के लिए दुआएं मांगी गई। अन्य सम्प्रदाय के लोगों ने भी अपने मुस्लिम भाईयों को ईद की मुबारकबाद दी।


आपसी प्रेम और सौहाद्र्रता का प्रतीक ईद त्यौहार शुक्रवार को बड़े उमंग और उत्साह के साथ मनाया गया। इस मौके पर जामा मस्जिद के पेश ईमाम मौलाना गुलाम यजदानी नेउन्होंने अपनी नूरानी तकरीर में फरमाया कि ईद,रोजेदारों को अल्लाह का इनाम हैं। ईद ,मोहब्बत का पैगाम देती हैं। कोरोना रूपी महामारी से अल्लाह तआला हम सबको महफूज़ रखे।पूरी दुनिया से ये बीमारी जल्द से जल्द खत्म हो जाये और फिर सबकी जिन्दगी चहक उठे।उन्होंने माहे रमजान के सदके में ईमान की सलामती की दुआ मांगी ।इसके बाद सलातो सलाम पेश किया गया।।सदरे अंजुमन हाजी नसीम अहमद, हाजी हारून, सैय्यद असफाक हाशमी ,हाजी अय्यूब, मो. युसूफ रिजवी, दिलावर रोकडिय़ा, ताजुद्दीन खत्री, मो. शाह अहमद, मो. युसूफ रजा, अब्दुल रज्जाक रिजवी, अशरफ रोकडिय़ा, वसीम कुरैशी, सैय्यद अशफाक हाशमी, हाजी सलाम खत्री, मोहम्मद मुन्नाफ, मोहम्मद समीम वकील, डॉ शमीम, असलम रोकडिय़ा, असलम कुछावा, युसूफ रजा, नजीर अहमद सिद्धिकी, अफजल रिजवी, अब्दुल हकीम, असलम भाटी, तनवीर उस्मान, फहीम भाई, जुनैद रिजवी, अहमद भाई, साहिल अहमद, अवैश हाशमी, रेहान विरानी, हाजी बशीर, इकबाल खोखर, मोहम्मद फिरोज खान, अजमल खान, मो. अकरम रिजवी, सलाम गोंड़, शेख इकबाल बुरहान, इस्माइल खोखर, शेख दारा भाई, हाजी मैनुद्दीन खिलची, गोलची बेलीम, मो. रूसतम गोंड़, मो. जाफर खिलची, अहमद रजा, राजू चिश्ती, याकूब तंवर ,वसीम खिलची, मोईन खान, सलीम रोकडिय़ा ने अपनी ओर से ईद की मुबारकबाद दी ।

परम्परा कायम रही…

शहर की आपसी प्रेम और सद्भावना की गौरवशाली परंपरा को कायम रखते हुए अन्य सम्प्रदाय के लोगों ने भी अपने मुस्लिम भाईयो को ईद की मुबारकबाद दी।विधायक रंजना साहू,महापौर,विजय देवांगन,गोपाल शर्मा, मदन मोहन खण्डेलवाल,शरद लोहाना,,मोहन ललवानी,हरमिंदर छाबड़ा,आनंद पवार,अनुराग मसीह,शशि ठाकुर,अर्चना चौबे, राजेन्द्र शर्मा,राकेश चेनवानी,रितुराज पवार,निशु चन्द्राकार ने अपने मुस्लिम भाइयो को ईद की मुबारकबाद देते हुए कहा कि यह पर्व हमे हमे आपसी भाईचारा और एकता का संदेश देता रहेगा।

मगफिरत के लिए दुआ

ईद की नमाज अदा करने के बाद मुस्लिम भाईयों ने कब्रस्तान में पहुंचकर अपने मरहुमिन की कब्र में फातिहा पढ़कर उनकी मगफिरत के लिए दुआएं खैर की। इसके अलावा मिसकिनों को जकात और फितरा बाटा गया।

खिल उठता है इंसानियत का चेहरा

हनफिया मस्जिद के इमाम मुफ्ती तौहिद रजा ने अपनी नूरानी तकरीर में कहा कि खुशनसीब है वे मुसलमान ,जिन्होंने पाबंदी के साथ रोजा रखा और खुदा की ईबादत की। वतन-ए-हिन्दुस्तान में आपसी भाईचारे को मजबूत करने पर जोर देते हुए कहा कि इस्लाम आपस में मोहब्बत करना सिखाता है। सभी कौम के लोगों के बीच आपसी मोहब्बत हो और सब एक-दूसरे के खुशी में शामिल हो, तो इंसानियत का चेहरा भी खिल उठता है। उन्होंने आगे कहा कि कुरान दुनिया की अजीम किताब है। इस पर अमल कर हम अपनी दुनिया और आखिरत को संवार सकते हैं।