कलेक्टर ने किया जिला अस्पताल का निरीक्षण, कोविड टेस्टिंग और छूटे हुए लोगों का टीकाकरण पूरी गंभीरता से करने के दिए निर्देश

81

कोविड से बचाव के लिए कोविड अप्रोप्रिएट व्यवहार पर कलेक्टर ने दिया ज़ोर

धमतरी | कलेक्टर  पी.एस.एल्मा ने  ज़िला अस्पताल का निरीक्षण कर कोविड जांच की प्रगति की जानकारी ली। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.डी.के.तुर्रे और सिविल सर्जन डॉ. कौशिक दोनों को निर्देशित किया कि ज़िला अस्पताल में पदस्थ स्वास्थ्य अमले सहित वहां ओपीडी, आईपीडी के मरीज और परिजन कोविड अनुकूल व्यवहार को अपनाएं, यह सुनिश्चित किया जाए। इस दौरान कलेक्टर ने ज़िला अस्पताल परिसर के पुरुष, महिला वार्ड, कोविड टेस्टिंग स्थल, ओपीडी, परिसर की साफ-सफाई व्यवस्था इत्यादि का निरीक्षण कर सिविल सर्जन को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय का मुआयना किया और कोविड जांच की एमआईएस एंट्री, लक्ष्य अनुरूप कोविड जांच, ज़िले के 18 साल से अधिक उम्र के ऐसे लोग, जिन्हें कोविड का दूसरा डोज नहीं लगा है, उनका टीकाकरण कराने पर विशेष बल दिया है।


ज्ञात हो कि जिले में 18 साल से अधिक आयु के पांच लाख 79 हजार 971 के लक्ष्य के विरूद्ध 100 प्रतिशत से अधिक, याने पांच लाख 95 हजार 484 लोगों का पहले डोज का टीकाकरण हो चुका है। इनमें 18 से 44 साल तक के तीन लाख 41 हजार पांच, 45 साल से अधिक आयु के दो लाख 40 हजार 314, हेल्थ केयर वर्कर्स सात हजार 331 और फ्रंट लाइन वर्कर्स छः हजार 834 शामिल हैं। इसी तरह तीन लाख 59 हजार 438 लोगों का दूसरे डोज का टीका लग चुका है। इनमें 18 से 44 साल तक के एक लाख 93 हजार 133, 45 साल से अधिक आयु के एक लाख 55 हजार 607, हेल्थ केयर वर्कर्स पांच हजार 622 और फ्रंट लाइन वर्कर्स पांच हजार 76 शामिल हैं।