विश्वास में किया धोखा लाखों रुपए के सोने के गहनों को विश्वास में लेकर बिना बताए रखा गिरवी आरोपी गिरफ्तार

643

गहने गिरवी रखने से प्राप्त रकम को आरोपियों ने किया व्यक्तिगत उपयोग, डेढ़ वर्ष बीत जाने के बाद भी नहीं लौटाए गहने अपराध कायमी के पूर्व से ही हुई फरार, काफी मशक्कत से पतासाजी कर किया गया गिरफ्तार थाना कोतवाली पुलिस की कार्यवाही

धमतरी l धमतरी शहर क्षेत्रांतर्गत महिमा सागर वार्ड निवासी महिला ने लिखित आवेदन देकर रिपोर्ट दर्ज कराई कि आधारी नवागांव वार्ड निवासी गंगा बांधे से उसकी पुरानी जान पहचान होने के कारण उस पर विश्वास करती थी। इसी बीच गंगा बांधे द्वारा प्रार्थिया से उसके गहने कुछ दिन के लिए उपयोग हेतु मांगकर बिना बताए बदनीयती से उसके गहनों को ज्वेलरी दुकान में गिरवी रखकर रुपए प्राप्त कर डेढ़ वर्ष बीत जाने के बाद भी गहने वापस नहीं की। उक्त रिपोर्ट पर आरोपिया गंगा बांधे के विरुद्ध अपराध क्रमांक 305/21 धारा 406 भादवी के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

पुलिस अधीक्षक धमतरी श्री प्रफुल्ल कुमार ठाकुर ने तत्काल वैधानिक कार्यवाही कर आरोपिया को गिरफ्तार करने निर्देशित किया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती निवेदिता पॉल के मार्गदर्शन व उप पुलिस अधीक्षक मुख्यालय श्री अरुण जोशी के पर्यवेक्षण में थाना प्रभारी कोतवाली नवनीत पाटिल ने अपनी टीम के साथ आरोपिया के सकुनत में दबिश दी, किंतु अपराध कायमी के पूर्व से ही आरोपिया सकुनत से फरार होने से पतासाजी हेतु मुखबिर लगाया गया। साथ ही तकनीकी सहायता भी ली गई।

इसी दरमियान मुखबिर से सूचना मिली की आरोपिया गंगा बांधे अपने पति के साथ रायपुर में है। उक्त सूचना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराकर निर्देशानुसार तत्काल टीम रवाना किया गया। उक्त टीम ने ट्रांसपोर्ट नगर रायपुर से आरोपिया गंगा बांधे को अभिरक्षा में लेकर पूछताछ किया गया। पूछताछ में आरोपिया ने प्रार्थिया को विश्वास में लेकर उसके लाखों रुपए के सोने के गहने लेना तथा उक्त गहनों को धमतरी के ज्वेलरी शॉप में गिरवी रखकर रुपए प्राप्त कर व्यक्तिगत उपयोग करना बताई। आरोपिया की निशानदेही पर ज्वेलरी शॉप में गिरवी रखे गए सोने के गहनों को बरामद किया गया है। विवेचना क्रम में मेमोरेंडम कथन, उपलब्ध दस्तावेजी साक्ष्य के आधार पर *आरोपिया गंगा बांधे पति गोविंद बांधे उम्र 28 वर्ष साकिन आधारी नवागांव वार्ड एफसीआई गोदाम के सामने धमतरी* को विधिवत गिरफ्तार कर वैधानिक कार्यवाही की गई तथा न्यायिक रिमांड हेतु माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। मामले की विवेचना क्रम में अन्य दस्तावेजी साक्ष्य संकलित किया गया तथा आरोपिया ने प्रार्थिया के अलावा शहर के अन्य लोगों को भी अपना शिकार बनाई है, जिसके संबंध में शिकायतें प्राप्त हुई हैं। जिस पर वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।