राजस्थान के 14 आईएएस अधिकारियों ने देखी वर्मी कम्पोस्ट व सुपर कम्पोस्ट उत्पादन की प्रक्रिया

96
गोबरधन परियोजना के तहत बॉयोगैस संयंत्र की उपयोगिता से टीम हुई रू-ब-रू

धमतरी| छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना का अध्ययन भ्रमण के लिए राजस्थान से 14 भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों का दल जिले के एकदिवसीय प्रवास पर बुधवार 14 जुलाई को जिले के गौठान ग्राम भटगांव के गोकुलधाम गौठान में पहुंचा |

जहां पर गौठान समिति से गोबर खरीदी एवं महिला समूह से वर्मी कम्पोस्ट और सुपर कम्पोस्ट के उत्पादन की प्रक्रिया, छनाई एवं पैकिंग, राशि का हस्तांतरण, शुद्ध लाभ तथा वहां पर आने पशुओं के व्यवस्थापन के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी ली। प्रवास के दौरान टीम ने सप्तर्षि हर्बल वाटिका में जय मां भवानी स्वसहायता समूह द्वारा की जा रही लेमनग्रास की खेती, तेल आसवन एवं समूह द्वारा 10 एकड़ बंजर भूमि का उपयोग करते हुए उस पर लेमनग्रास, एलोवेरा सहित गैंदा जैसे सुगंधित फूलों की खेती का अध्ययन किया।

समूह की महिलाओं ने अधिकारियों के दल को बंजर भूमि को उपयोगी बनाने से लेकर भूमि समतलीकरण, क्यारी निर्माण, पौधरोपण, उनकी सिंचाई, पौधों की वृद्धि के लिए गोबर व अन्य जैविक खाद का उपयोग सहित उत्पादों का बाजार में विक्रय से संबंधित पूरी प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी। साथ ही शारदा स्वसहायता समूह से संचालित ‘दीदी की रसोई‘ में बनाये जाने वाले छत्तीसगढ़ी व्यंजनों के बारे जानकर महिलाओं की आजीविका तथा उनके आय संवर्धन के लिए किए जा रहे नवाचारों के बारे में दल ने विस्तारपूर्वक जाना। इसके बाद अध्ययन भ्रमण दल के अधिकारियों ने धमतरी विकासखण्ड के गौठान ग्राम कसावाही में गोबरधन परियोजना से 10 घनमीटर के गोबर गैस संयंत्र तथा उससे उत्पादित गैस के ईंधन में उपयोग करने वाले 5 परिवार के महिलाओं से चर्चा की। राजस्थान से आए अधिकारियों के भ्रमण दल में श्रीमती मंजू राजपाल, सर्वश्री विश्वमोहन शर्मा, डॉ अंजलि राजोरिया, इंद्रजीत यादव, पूजा कुमारी पार्थ, जसमीत सिंह संधू, श्रीनिधि बी.टी., सुश्री श्वेता चौहान, गौरव सैनी, डॉ. सौम्या झा, पराग चौधरी, विजय कुमार झा सहित कनिष्ठ अधिकारीगण शामिल थे। दल के अधिकारियों ने छत्तीसगढ़ शासन द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के क्रियान्वयन की सराहना भी की। भ्रमण दल में इस अवसर पर जिला पंचायत की सी.ई.ओ. श्रीमती प्रियंका महोबिया, उप संचालक कृषि श्री जीएस कौशल, उप संचालक पशुपालन डॉ. एमएस बघेल, सहायक संचालक उद्यान श्री डीएस कुशवाह, जिला पंचायत के ए.पी.ओ. श्री धरम सिंह के अलावा मैदानी अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे।