पुलिस और अस्पताल महकमें ने समाजसेवी की सोच को सलाम किया

517

राजेश रायचुरा

पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग को दिया पी पी ई किट
धमतरी। कहते हैं अच्छे अच्छों की परख बुरे समय में हो जाती है आज पूरा विश्व और हमारा भारत देश कोरोना वायरस जैसे खतरनाक और जानलेवा महामारी से जूझ रहा है ऐसे में छत्तीसगढ़ प्रदेश के धमतरी जिले में

स्वयंसेवियों ने अपनी-अपनी तरह से मदद का प्रयास शुरू किया है जिसमें जिला प्रशासन और सरकारों की सेवाएं लोगों को घर तक मिल रही है लेकिन इन सबके बीच उनकी ओर किसी का ध्यान नहीं जाता जो असल में कोरोनावायरस के अटैक का परवाह किए बगैर लगातार जनता कर्फ्यू से अब तक जुटे हुए हैं जिन पर उनके परिवार के सदस्य ही नहीं देश को गर्व है जी हां हम बात कर रहे हैं पुलिस प्रशासन के अधिकारियों से लेकर

आरक्षक तक और अस्पताल प्रबंधन के सीएमएचओ, सचिव रैंक के अधिकारी से लेकर एक सामान्य नर्स स्टाफ तक की जिन्होंने बता दिया कि जब तक सुरक्षा और स्वास्थ्य की देखरेख होती रहेगी बड़ी सी बड़ी बीमारी और प्रकोप से लड़ा जा सकेगा अफसोस ऐसे लोगों की ओर किसी का ध्यान नहीं जाता बल्कि इनके द्वारा लोगों को दी जाने वाली समझाइश और तीमारदारी का उल्टा परिणाम भी इन्हें झेलना पड़ता है ऐसे में धमतरी के समाजसेवी पंडित राजेश शर्मा और उनकी टीम ने कुछ ऐसा कर दिखाया कि अन्य समाजसेवियों और दानदाताओं के लिए प्रेरणा और मिसाल स्थापित हो गया। जी हां राजेश शर्मा की टीम ने कुछ दिनों पहले ही धमतरी जिले के पुलिस महकमे के लिए पेट्रोल की पर्चियां बाटी ताकि लगातार पेट्रोलिंग कर रही पुलिस को इस बात की चिंता ना रहे कि किसी कारण से पेट्रोल नहीं मिला तो उनकी ड्यूटी अधूरी रह जाएगी दूसरी ओर 13 अप्रैल को यानी लॉकडाउन के पहले चरण के 1 दिन पहले पंडित राजेश शर्मा ,जितेंद्र शर्मा ,विकास शर्मा और भागेश बैद ने जिला अस्पताल पहुंचकर अस्पताल प्रबंधन को ऐसा सहयोग किया

जिसकी नितांत आवश्यकता तो थी लेकिन सोचा नहीं था कि ऐसी मदद एक समाजसेवी की सोच के साथ मिलेगी आपको बता दें कोरोनावायरस का अटैक और खतरा सबसे ज्यादा इससे संक्रमित लोगों की सेवा में लगे अस्पताल स्टाफ को होता है विसंगति है कि काफी प्रयासों के बाद भी कुछ अस्पतालों में पीपीई किट की कमी महसूस की जाने लगी थी फिर क्या था अपनी समाज सेवा से पहले ही मिसाल स्थापित कर चुके पंडित राजेश शर्मा ने अथक प्रयासों से पीपीई किट की व्यवस्था की और जिला अस्पताल प्रबंधन को 25 नग किट सौंप दिया। जहां इस तरह की मदद को स्वयं राजेश शर्मा जिस समय में वास्तविक मदद मानते हैं तो अस्पताल प्रबंधन ने कहा कि यदि लोगों का सहयोग इसी तरह कायम रहा तो बहुत कम समय में हम कोरोनावायरस से निजात पा लेंगे इस वैश्विक महामारी को टिकने नहीं देंगे। फिलहाल पंडित राजेश शर्मा के मदद के तरीकों की जिले में खूब चर्चा है और लोगों का कहना है कि आम जनों तक तो किसी न किसी माध्यम से राशन पानी पहुंच ही रहा है लेकिन जिनकी वजह से अभी तक धमतरी जिला कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा हुआ है उनकी और उनके परिवार की चिंता आम लोग भी करने लगे तो संभव है कि केवल कोरोना ही नहीं किसी भी तरह की समस्या से जूझने के लिए भारत की एकजुटता और नेक सोच किसी वैक्सीन कमतर नहीं होगा।