कर्त्तव्य विमुख होकर,स्वास्थ्य सुविधा देने नकाम हो गई है प्रदेश सरकार-रँजना साहू कोरोनो संक्रमण को रोकने सरकार के सारे तंत्र विफल, लगाये आर्थिक अपातकाल-विजय मोटवानी

23

राज्य सरकार के आर्थिक खोखलेपन को उजागर करता खाली घडा को लेकर भजयुमो ने दिया धरना , विधायक भी हुई शामिल

धमतरी | राज्य की सरकार को सत्ता में आए लगभग ढाई वर्ष हो गए हैं इस अंतराल में सरकार ने इतना कर्ज लिया है कि स्थिति आर्थिक दीवालयेपन की निर्मित हो गई है ,पैसे के अभाव में सरकार बुनियादी सुविधाओं जिसमें वर्तमान समय में सर्वाधिक आवश्यकता स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्य करते हुवे कोरोनो से पीडित लोगों को सुविधाएं सुगमता व सरलता से उपलब्ध कराने की है ,इससे विपरीत चारो तरफ समुचित उपचार के अभाव चारों तरफ त्राहि-त्राहि मची हुई है।

इसी नाकामी को उजागर व आमजनमानस मे प्रदर्शित करने के लिए विधायक रँजना साहू,युवामोर्चाभारतीय जनता युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष विजय मोटवानी तथा नगर निगम के पूर्व सभापति राजेंद्र शर्मा ने पार्टी के प्रदेश व्यापी आह्वान पर बालक चौक मे श्री मोटवानी के संस्थान के समक्ष खाली घड़े लेकर तथा उसमे लिखे नारे गुंगी सरकार, बहरी सरकार,खोखली सरकार ,निकम्मी सरकार ,विपन्न सरकार ,अकर्मण्य सरकार ,संवेदनहीन सरकार, जोकि प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल की हर क्षेत्र में नाकामियों को प्रदर्शित करते हुवे धरनारत रहे , धरना देते हुवे विधायक रँजना डिपेन्द्र साहू ने कहा है कि चुनाव के समय बढी-बढी बात करने वाली प्रदेश की भूपेश बघेल की कांग्रेस की सरकार आमनमानस को कोविड के संकट काल स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से सेवा व सुविधा देने मे पूरी तरह नकाम होकर ,अपने कर्तव्य से विमुख हो गई है,अब सरकार मे बने रहने का अधिकार खो चुकी है,स्वास्थ्य मंत्री को विभाग की बैठक नही बुलाया जा रहा है,ऐसे मे इन्हें नैतिकता के नाते इस्तीफा दे देना चाहिए|

वहीं मोर्चा के जिलाध्यक्ष विजय मोटवानी ने कहा कि प्रदेश सरकार दूरदर्शी तथा गैर जिम्मेदारीपूर्ण निर्णय लेने के कारण प्रदेश के खजाना को पूरी तरह खाली कर चुकी है आम जनता त्रस्त होकर कराह रही है ,सरकार असम चुनाव में मस्त होकर छत्तीसगढ़ की संपदा को वहां खर्च कर दिये है ऐसे में कोविड-19 संक्रमण महामारी तेजी के साथ पैर पसारते हुए पूरे राज्य में तांडव नृत्य कर रही है ।सरकार की सारी मिशनरी फेल हो चुकी है मैं महामहिम राष्ट्रपति से आग्रह करता हूं कि राज्य के बिगड़ती स्थिति को देखते हुए अविलंब आर्थिक आपातकाल लगाकर सुविधाओं को बहाल करने में मदद का भाव प्रदर्शित करे, नहीं तो आने वाला समय राज्य की जनता के लिए भयावह स्थिति निर्मित करने वाला होगा।