आचार्य श्री महाश्रमण और नागपुर से साध्वी कनक प्रभा जी का धर्म की नगरी धमतरी में स्वागत के लिए उमड़ा जन सैलाब

114

धमतरी | आचार्य श्री महाश्रमण और नागपुर से साध्वी कनक प्रभा जी का धर्म की नगरी धमतरी में पहुंचने पर स्वागत के लिए जन सैलाब उमड़ पड़ा। बस्तर मार्ग से सुबह लगभग 8 बजे धमतरी जिले में प्रवेश करने के बाद नेशनल हाईवे में आचार्य के दर्शन करने लोग इंतजार करते रहे। जैसे जैसे वे शहर की ओर बढ़ते गए कारवां जुड़ता गया। साहू समाज, देवांगन समाज, यादव समाज, मुस्लिम समाज, सिख समाज, पूज्य पंचायत सिंधी समाज माहेश्वरी समाज धीवर समाज,आरएसएस सहित विभिन्न संगठन समाज, जनप्रतिनिधियों ने स्वागत किया। इसके पश्चात कृषि उपज मंडी में प्रवचन रखा गया।

तेरापंथ के प्रमुख आचार्य श्री महाश्रमण और उनके साथ 125 साधु-साध्वियों का समूह 8 फरवरी की सुबह धमतरी पहुंचा। पूरे रास्ते स्वागत, सत्कार के बाद मंचीय कार्यक्रम कृषि उपज मंडी में रखा गया। जहां आचार्य महाश्रमण ने धमतरी की जनता को आशीर्वाद प्रदान किया। कार्यक्रम के शुभारंभ पर विभिन्न महिला मंडल एवं बच्चों ने स्वागत गीत एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया।

आचार्य श्री  महाश्रमण के उद्बोधन के पूर्व सकल जैन संघ की ओर से आकाश जैन ने आचार्य का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि यह धमतरी का सौभाग्य है कि धमतरी को वर्धमान महोत्सव में शामिल किया गया। विधायक रंजना साहू ने कहा कि धमतरी का सौभाग्य कि गुरूदेव का आगमन यहां हुआ। उनके चरण रज पड़े। उन्होंने अपना आंचल फैलाकर धमतरी के सुख, समृद्धि के लिए आशीर्वाद मांगा। महापौर विजय देवांगन ने कहा कि धमतरी शहर के नागरिकों के आशीर्वाद की कामना करता हूँ। पूर्व विधायक इंदर चोपड़ा ने कहा कि हमारे जीवन का अमूल्य सौभाग्य है कि आपका दर्शन हमको मिला।

जगदलपुर विधायक व संसदीय सचिव रेखचंद जैन ने कहा कि महात्मा गांधी ने अहिंसा के रास्ते पर चलकर देश को आजादी दिलाई। आज देश में हिंसात्मक गतिविधियां बढ़ गई हैं। देश के लोग नशापान मेें लिप्त होते जा रहे हैं। दूसरी तरफ तेरापंथ के आचार्य महाश्रमण अहिंसा यात्रा पर निकले हुए हैं। जिसमें वे अहिंसा और नशामुक्ति का संदेश दे रहे हैं। इससे निश्चित ही बदलाव आएगा। सभा को पूर्व विधायक हर्षद मेहता, युवा व्यवसायी व उनके शिष्य उमेश संचेती ने भी संबोधित किया। मंच संचालन दिनेश मुनि जी महाराज ने किया।

धमतरी वासियों को नशा छोड़ने की दिलाई शपथ

आचार्य श्री महाश्रमण के तपस्या के 50 वर्ष पूरे हो गए। उन्होंने धमतरी जैन समाज व उपस्थित जन समूह को आशीर्वचन देते हुए कहा कि 8 व 9 फरवरी को वर्धमान महोत्सव तय किया गया था। यह धमतरी को प्राप्त हुआ है। वर्धमान शब्द महावीर के नाम होने का गौरव प्राप्त कर चुका है। मार्ग में विभिन्नता जरूर होती है लेकिन एकता भी होती है। हैदराबाद, तेलंगाना से होकर बस्तर संभाग में प्रवेश किया। इस अहिंसा यात्रा में 3 बातों का मुख्य ध्यान रखा जा रहा है, वो है सद्भावना, नैतिकता और नशामुक्ति। सद्भावना पर उन्होंने कहा कि यह आयोजन धमतरी में मानों सद्भावना ने आकार ले लिया। नैतिकता पर कहा कि हर व्यक्ति के अंदर ईमानदारी होनी चाहिए। जिस क्षेत्र में भी वह कार्य करता हो, उसे पारदर्शिता और ईमानदारी जरूर होनी चाहिए। नशामुक्ति पर उन्होंने कहा कि नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करने का संकल्प लेना होगा। इस दौरान उपस्थित जनसमूह से उन्होंने कहलवाया कि मैं यथासंभव ईमानदारी से कार्य करूंगा। मैं नशा का सेवन नहीं करूंगा। सभी प्रकार के नशीले पदार्थों का छोड़ने का प्रयास करूंगा।

6 साल से चली आ रही है यह अहिंसा यात्रा

रायपुर के नरेन्द्र दुग्गड़ ने बताया कि 9 नवम्बर 2014 को लालकिले से नरेन्द्र मोदी ने झंडा दिखाकर अहिंसा यात्रा को रवाना किया था। नेपाल, भूटान सहित 19 राज्यों का सफर तय करते हुए छत्तीसगढ़ पहुंचे हैं। कोंडागांव के दहीकोंगा में 50 हजार किलोमीटर पदयात्रा पूरी हुई। उनके साथ नागपुर की साध्वी कनक प्रभा जी 125 साधु-साध्वी चल रहे हैं। 14 से 21 फरवरी तक एयरपोर्ट के सामने जैनम भवन रायपुर में उनका कार्यक्रम रखा गया है। जहां से वे नागपुर, इंदौर, उज्जैन होते हुए चातुर्मास में भीलवाड़ा राजस्थान पहुंचेंगे।

सभा में आशीर्वाद लेने विधायक रंजना साहू, महापौर विजय देवांगन, कांगे्रस जिलाध्क्ष शरद लोहाना, निगम सभापति अनुराग सभापति, पूर्व विधायक हर्षद मेहता, इंदर चोपड़ा, पुलिस अधीक्षक बीपी राजभानु, समाजसेवी श्याम अग्रवाल, दीपक लखोटिया, ईश्वर देवांगन, आनंद पवार, पूर्व महापौर अर्चना चौबे, भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष बीथिका विश्वास, सरला जैन, निर्मल बरड़िया के साथ जैन समाज से अध्यक्ष विजय गोलछा, विजय प्रकाश जैन, पीयूष जैन, राकेश जैन, प्रकाश पारख, अमित जैन, दीपक जैन, सुमित जैन, कवीन्द्र जैन, अभय बरड़िया, संकेत पारख, संकेत बरड़िया, गब्बू डागा, सुधर्म महिला मंडल, मणिधारी मित्र मंडल, समता युवा संघ, जैन जागृति महिला मंडल, विहार सेवा ग्रुप, विचक्षण पूजा मंडल के सदस्य  सहित हजारों की संख्या में जिन समाज के लोग भी मौजूद थे।