दुगली में धान खरीदी केंद्र की मांग को लेकर तीसरे दिन 111 गांव के किसान जुटे, चक्काजाम से आवागमन प्रभावित

138

नगरी| दुगली में धान खरीदी केंद्र की मांग को लेकर तीसरे दिन भी 111 गांव के किसान  सत्यागढ़ पर डटे हुए है| किसानों के चक्काजाम के कारण आवागमन भी प्रभावित रहा |    किसानों का कहना है कि शासन- प्रशासन किसानों के हित की अनदेखी कर रहा है| शासन में बैठे लोग किसान हितेषी होने की बात करते हैं | यह किसानों के साथ छलावा मात्र है | किसानों का कहना है कि जब तक मांग पूरी नहीं होगी, हम यहां से नहीं हटेंगे | ज्ञात हो कि राजीव गांधी ग्राम दुगली में धान उपार्जन केन्द्र खोलने की मांग को लेकर 6 पंचायतों के हजारों  किसान 30 नवंबर से सत्याग्रह कर रहे है| किसानों का कहना है कि जब तक उनकी मांग पूरी नही होती यह सत्याग्रह जारी रहेगा |

किसानों ने बताया कि 25-30 किलोमीटर की दूरी तय कर कृषक धान बेचने गट्टासिल्ली जाते हैं। अगर दुगली में धान उपार्जन केन्द्र खोल दिया जाता है तो किसानों को लाभ होगा | मिलरों को भी धान उठाव में किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होगी | किसानों को  धान बेचने में सहुलियत होगी।  क्षेत्र की पूर्व विधायक पिंकी शिवराज शाह किसानों के आंदोलन का समर्थन करने पहुंची| उन्होंने कहा कि कांग्रेस  शासनकाल में किसानों को अपनी छोटी सी मांग को लेकर चक्काजाम करना पड़ रहा है जबकि वैकल्पिक व्यवस्था बनाना जिला प्रशासन के हाथ में है| शासन-प्रशासन के इस रवैये से पता चलता है कि छत्तीसगढ़ की सरकार किसानों के प्रति कितनी संवेदनशील है ।