18 को बिजली कर्मचारियों और इंजीनियरों का राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन 

770

इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2020 और निजीकरण के विरोध में

धमतरी |  इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2020 एवं केंद्र शासित प्रदेशों, उत्तरप्रदेश तथा उड़ीसा में बिजली के निजीकरण के विरोध में आगामी 18 अगस्त को बिजली कर्मचारी एवं इंजीनियर देशभर में विरोध प्रदर्शन एवं सभाएं करेंगे | ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन के चेयरमैन शैलेंद्र दुबे ने बताया कि नेशनल कोआर्डिनेशन कमेटी ऑफ इलेक्ट्रिसिटी इम्पलॉईस एन्ड  इंजीनियर्स (एन सी सी ओ) के आवहन पर देश भर में पावर सेक्टर में काम करने वाले तमाम 15 लाख  बिजली कर्मचारी व इंजीनियर विरोध प्रदर्शन में सम्मिलित होंगे | उन्होंने बताया इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2020 के मसौदे पर केंद्रीय विद्युत मंत्री द्वारा विगत 3 जुलाई को राज्यों के ऊर्जा मंत्रियों के साथ हुई मीटिंग में 11 प्रांतों और 2 केंद्र शासित प्रांतो  ने इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2020 के निजीकरण के मसौदे का जमकर विरोध किया था |  परिणाम स्वरूप 3 जुलाई की मीटिंग में केंद्रीय विद्युत मंत्री आरके सिंह ने यह घोषणा की कि राज्य सरकारों के विरोध को देखते हुए इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2020 के मसौदे में संशोधन किया जाएगा|  राज्य के ऊर्जा  मंत्रियों की बैठक के डेढ़ माह बाद भी इलेक्ट्रिसिटी(अमेंडमेंट) बिल 2020  के संशोधित प्रारूप को विद्युत मंत्रालय ने अभी तक सार्वजनिक नहीं किया है और केंद्र सरकार राज्यों पर दबाव डालकर निजीकरण का एजेंडा आगे बढ़ा रही है जिससे बिजली कर्मियों में भारी  रोष व्याप्त है| उन्होंने बताया की केंद्र शासित प्रदेशों विशेषतया  चंडीगढ़, पुडुचेरी, अंडमान निकोबार, लद्दाख, जम्मू एवं कश्मीर में निजीकरण की  प्रक्रिया तेजी से चलाई जा रही है|  साथ ही  उत्तर प्रदेश में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम  के निजी करण के प्रस्ताव पर कार्य प्रारंभ हो गया है | दूसरी ओर उड़ीसा में सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई अंडरटेकिंग को  टाटा पावर को हैंडओवर  कर दिया गया है और तीन अन्य विद्युत वितरण कंपनियों  नेस्को, वेस्को और साउथको के निजीकरण की प्रक्रिया शुरू हो गई है|  केंद्र सरकार के दबाव में चल रहे निजी करण के क्रियाकलापों से बिजली कर्मियों और अभियंताओं में भारी गुस्सा है | छत्तीसगढ राज्य विद्युत कर्मचारी जनता यूनियन के महासचिव अजय बाबर ने  बताया कि निजीकरण का  यह प्रयोग उड़ीसा, दिल्ली, ग्रेटर नोएडा, औरंगाबाद, नागपुर, जलगांव, आगरा, उज्जैन, ग्वालियर, सागर, भागलपुर, गया, मुजफ्फरपुर आदि कई स्थानों पर पूरी तरह से विफल साबित हुए है |

इसके बावजूद इन्हीं विफल प्रयोगों को वित्तीय मदद देने के नाम पर केंद्र सरकार विभिन्न राज्यों में थोप  रही है जो एक प्रकार से ब्लैकमेल है| नेशनल कोऑर्डिनेशन कमेटी ऑफ इलेक्ट्रिसिटी इंप्लाइज एंड इंजीनियर्स  ने निर्णय लिया है कि  निजीकरण के इस मसौदे को स्वीकार नहीं किया जाएगा और 18 अगस्त के विरोध प्रदर्शन के बाद भी यदि केंद्र और राज्य सरकारों ने  निजीकरण के प्रस्ताव व् कार्यवाही निरस्त न की  तो  15 लाख बिजली कर्मी राष्ट्रव्यापी आंदोलन प्रारम्भ करने हेतु बाध्य होंगे  जिसकी सारी जिम्मेदारी केंद्र और राज्य सरकारों की होगी| छत्तीसगढ राज्य विद्युत कर्मचारी जनता यूनियन ने पावर कंपनीज के समस्त कर्मचारियों एवं अधिकारियों से अपील कर इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2020 और निजीकरण के विरोध में 18 अगस्त को बिजली कर्मचारियों और इंजीनियरों का राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन के तहत काली पट्टी लगाएं ।