हाथरस कांड पर बोली लक्ष्मीकांता, पहले देश की रक्षा व आत्मस्वाभिमान है उसके बाद दलगत राजनीति, पीएम राज्यों की कानून व्यवस्था पर दखल दें  

480

मगरलोड | लक्ष्मीकांता हेमन्त साहू संयुक्त सचिव प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने कहा कि उत्तरप्रदेश के हाथरस की घटना ने मानवता को शर्मशार व हिलाकर रख दिया है| इस घटना की जितनी निंदा व भ्रत्सना की जाए कम है। यह घटना हमें दिल्ली की निर्भया कांड की याद दिलाती है | आखिर ऐसी रूह कंपा देने वाली भयावह घटना घटित क्यों होती हैं ? इस तरह की घटना ने आज देश के संविधान व कानून व्यवस्था को सोचने पर मजबूर कर दिया है। इसकी मूल वजह कानून व्यवस्था का मजबूती के साथ पालन न होना । मानवता के कंलकित गुनाहगारों के ऊपर जब तक अनुशासन, कानून व्यवस्था का डर पैदा नही होगा तब तक ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति होती रहेगी | यह सब उस राज्य की कानून व्यवस्था पर निर्भर करता है |उत्तरप्रदेश में अपराध की घटनाओं में तेजी से वृद्धि हुई हैं चाहे वह गैंगवार हो, लूटपाट, बलात्कार, गुंडागर्दी,  भ्रष्टाचार का मामला हो | यहाँ पर योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर ढीली पकड़ स्पष्ट रूप से परिलक्षित होती है। यदि अन्याय के विरुद्ध आवाज बुलंद होती है, तो उसे दबाया जाता है | उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी व प्रियंका गांधी को हाथरस जाने से रोका गया | कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया| मीडिया को पीड़िता के घर जाने से रोका जाना योगी सरकार की संदिग्ध कानून व्यवस्था को दर्शाता है । इस घटना की जितनी निंदा की जाए कम है। लक्ष्मीकांता साहू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की है कि चाहे राज्य में सरकार किसी भी पार्टी की हो| यदि कानून व्यवस्था को ताक पर रखा जाता है तो आपके द्वारा त्वरित टिप्पणी आनी चाहिए व उस राज्य की सरकार पर आदेशात्मक रुख अपनाते हुए तथ्यात्मक कार्यवाही होनी चाहिए| पहले देश की रक्षा व आत्म स्वाभिमान है|उसके बाद दलगत राजनीति ।