सौर सुजला योजना के पांचवें चरण में सोलर पम्प लगाने का कार्य जिले में शुरू

87

धमतरी| प्रदेश सरकार की महती सौर सुजला योजना के तहत किसानों को व्यक्तिगत, सामुदायिक सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने एवं गौठानों, चारागाहों में पेयजल की सुविधा के लिए सोलर पम्प स्थापना का कार्य क्रेडा के जरिए किया जा रहा है। सोलर पम्प स्थापना से एक ओर जहां किसानों को खेतों में सिंचाई सुविधा उपलब्ध होने से वे आत्मनिर्भर हो रहे हैं, वहीं दूसरी ओर बिजली बिल भुगतान की समस्या नहीं होने से उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार हुआ है। दूरस्थ एवं पहुंचविहीन ग्रामों में जहां विद्युत प्रदाय नहीं होने की वजह से किसानों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध नहीं हो पाती थी एवं केवल वर्षा पर निर्भर रहते थे, ऐसे स्थलों में भी क्रेडा के जरिए सोलर पम्प स्थापित कर किसानों को लाभान्ति किया जा रहा है। धमतरी जिले में सौर सुजला योजना के तहत प्रथम चरण से चैथे चरण तक 1270 नग सोलर पम्प स्थापित किए जा चुके हैं तथा पांचवें चरण में 600 नग सोलर पम्प स्थापना का लक्ष्य मिला है। इस योजना के तहत सोलर पम्प स्थापना क लिए आवेदन प्रस्ताव कृषि विभाग के माध्यम से क्रेडा को प्राप्त होने के बाद 3 एवं 5 एच.पी. क्षमता के सोलर पम्प श्रेणीवार 90-95 प्रतिशत सब्सिडी के साथ पांच साल की वारंटी भी प्रदाय किया जाता है। सोलर पम्प स्थापना के लिए प्रोसेसिंग शुल्क कार्यपालन अभियंता, क्रेडा क्षेत्रीय कार्यालय रायपुर के नामे डीडी, चेक के माध्यम से आवेदन प्रस्ताव के साथ जमा कर सकते हैं।

सहायक अभियंता, क्रेडा ने बताया कि सौर सुजला योजना का पांचवां चरण प्रारंभ हो चुका है एवं किसानों के आवेदन निरंतर प्राप्त हो रहे हैं। इस योजना के तहत सोलर पम्प का स्थापना कार्य ’प्रथम आओ-प्रथम पाओ’ के आधार पर किया जाता है। उन्होंने किसानों से अपील की है कि ऐसे किसान जो सोलर पम्प लगाने के इच्छुक हैं एवं जल की उपलब्धता पर्याप्त मात्रा में हैं, वे जल्द से जल्द कृषि विभाग के जरिए पासपोर्ट साईज के फोटोग्राफ्स, बी-1, पी-2, नक्शा-खसरा, ऋण पुस्तिका, आधार कार्ड, बैंक पासबुक की छायाप्रति और जलस्त्रोत के फोटोग्राफ्स सहित आवेदन क्रेडा कार्यालय में प्रस्तुत कर सकते हैं। योजना के अधिक जानकारी के लिए कृषि विभाग के स्थानीय कार्यालय अथवा क्रेडा विभाग से सम्पर्क किया जा सकता है।