सार्थक के बच्चों के लिए फिज़िकल फिटनेस की क्लास शुरू

87

धमतरी । सर गौरी शंकर श्रीवास्तव सेवा समिति द्वारा संचालित मानसिक दिव्यांग प्रशिक्षण केंद्र सार्थक स्कूल में सार्थक के विशेष बच्चों के लिए प्रशिक्षकों द्वारा प्रत्येक शनिवार को फिज़िकल फिटनेस के लिए एक्सरसाइज़ सिखाया जा रहा है।

कोरोना के कहर की वजह से सार्थक स्कूल भी बंद है।प्रशिक्षक जरूर ऑनलाइन पढ़ाकर बच्चों से जुड़े हुए हैं। परंतु इन विशेष बच्चों की सेहत थोड़ी नाजुक होने के कारण इन्हें रोज एक्सरसाइज कराना बहुत जरूरी है।

पालकों के अनुसार बच्चे स्कूल में प्रशिक्षकों द्वारा जितना सीखते हैं, वैसा उनसे घर में नहीं सीख पाते। इसीलिए बच्चों के सेहत हेतु पालकों की समस्या का निराकरण करते हुए प्रत्येक शनिवार को बच्चों को सार्थक स्कूल में फिज़िकली फिट रहने के गुर सिखाने की शुरुआत की गई।इसका उदेश्य बच्चों को सक्रिय बनाना और खुश रखना है।

सार्थक अध्यक्ष डॉ. सरिता दोशी ने कहा कि, मानसिक दिव्यांग बच्चों में मांसपेशियों के अकड़न की समस्या अधिक होती है ।एक्सरसाइज करने से बच्चों में मानसिक और शारीरिक बदलाव आएगा, उनके मांसपेशियों में अकड़न की समस्या काफी हद तक दूर हो जाएगी। एक्सरसाइज के ऐसे प्रयास से बच्चों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को फायदा होगा और बच्चे स्फूर्तिवान बने रहेंगे।
फिज़िकल फिटनेस के क्लास के पहले दिन में सार्थक के 18 बच्चों ने हिस्सा लिया। उन्हें सबसे पहले बेसिक वार्मअप कराया गया। उसके बाद जम्पिंग ज्योँक , साइड बैंड साइड, डीप क्वट्स जैसे एक्सरसाइज संगीत की धुन पर किये गये । जिसके अंतर्गत शरीर के सभी मसल्स और मूवेबल पॉइंट्स का वार्मअप कराया गया।
साथ ही अपने स्थान पर धीरे धीरे जॉगिंग और उसके बाद हाथ और पैरों की उंगलियों की स्ट्रेचिंग कराई गई।
फिर उन्हें कलाई और शोल्डर रोटेशन, कोहनी (एल्बो)फ्लेक्शन और जम्पिंग कराए गए। बच्चों ने खुली हवा में उत्साह के साथ एक्सरसाइज़ का आनंद लिया।
इस अवसर पर सार्थक की अध्यक्ष डॉ. सरिता दोशी, सचिव स्नेहा राठौड़, प्रशिक्षक मैथिली गोड़े ,मुकेश चौधरी, स्वीटी सोनी, सुनैना गोड़े, वंश चौधरी ने बच्चों के साथ एक्सरसाइज की।

tushar