समाज और राष्ट्र के विकास में वाल्मीकि समाज का बड़ा योगदान : महापौर

564

धमतरी |अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा धमतरी द्वारा वाल्मीकि जयंती समारोह का आयोजन   नगर पालिक निगम समुदायिक भवन के पीछे विंध्यवासिनी वार्ड में किया गया| कार्यक्रम में मुख्य अतिथि महापौर विजय देवांगन रहे| कार्यक्रम की अध्यक्षता सभापति अनुराग मसीह ने की|विशिष्ट अतिथि के रूप में सुशीला देवी वाल्मीकि (राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा छत्तीसगढ़), संजय डागौर (पार्षद एवं प्रदेश अध्यक्ष अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा), कमलेश सोनकर (पार्षद विंध्यवासिनी वार्ड), राजेश पांडे (पार्षद ब्राह्मणपारा वार्ड), ज्योति वाल्मीकि (पार्षद जालमपुर वार्ड), चोवाराम वर्मा (पार्षद औद्योगिक वार्ड), दीपक सोनकर (पार्षद महिमा सागर वार्ड), जयदीप ऐंदवान ( रायपुर अध्यक्ष रायपुर वाल्मीकि महासभा), सूरज वाल्मीकि जितेंद्र वाल्मीकि (कांकेर अध्यक्ष वाल्मीकि महासभा), राजकुमार डग्गर, योगेश डग्गर (बेमेतरा अध्यक्ष वाल्मीकि महासभा), ईश्वर देवांगन, तनवीर कुरैशी उपस्थित रहे| दीप प्रज्वलित कर महर्षि वाल्मीकि के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। ततपश्चात समाज के प्रतिभावान छात्र-छात्राओं एवं समाज में अनुकरणीय योगदान देने वालों को प्रशस्ति पत्र एवं प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया | इस अवसर पर महापौर विजय देवांगन ने कहा कि महर्षि वाल्मीकि ने महाकाव्य रामायण महाग्रंथ की रचना भगवान राम के जन्म के 60 हजार वर्ष पहले कर दी थी। वाल्मीकि समाज का राष्ट्र, समाज हित में बड़ा योगदान रहा है। इस समाज  की मेहनत का फल है कि आज हमारा धमतरी नगर निगम स्वच्छता में  प्रथम स्थान पर आया है | समाज  की मांग पर महापौर देवांगन ने महापौर निधि से 5 लाख रुपये की घोषणा समाज के सर्वांगीण विकास के लिए की |इस अवसर पर प्रदेश संरक्षक कामता गोदरे, जिला संरक्षक अमित कछवाह, जिला अध्यक्ष अविनाश मारोठे, उपाध्यक्ष त्रिलोक एदेवान, सचिव विकास करोसिया, मनीष महरोलिया, कोषाअध्यक्ष जितेंद्र वाल्मीकि, तिलक चौहान, प्रचार मंत्री मनीष तेजी, देवेंद्र बघेल, मंच संचालक विशाल वाल्मीकि, मुख्य सलाहकार रामकुमार कुछवाह, पवन कुछवाह, दीपक नाग, पेमेन्द प्रकाश ऐदवान, सुदेश ज्ञारसर, सुरेंद्र महरोलिया, भागवत वाल्मीकि, निर्मल, मोरध्वज, करोसिया लच्छू मारोठे, हरिशंकर चौहान, विक्की मारोठे,  भीखू मारोठे, संतोष कुछवाह, सुरेश कुछवाह, अकाश मारोठे, ओमप्रकाश डागौर समेत  समस्त वाल्मीकि समाज के लोग उपस्थित थे|