सजग है धमतरी प्रशासन: माॅकड्रिल से किया साबित किसी भी प्रतिकूल स्थिति से निपटने तैयार है हम

446

जालमपुर वार्ड में कोरोना का प्रकरण नहीं, बल्कि जिला प्रशासन द्वारा माॅकड्रिल किया गया

धमतरी| कोरोना वायरस कोविड-19 के संभावित संक्रमण को दृष्टिगत करते हुए जिला प्रशासन द्वारा आज माॅक ड्रिल किया गया। आज अपराह्न 12 बजे स्थानीय जालमपुर वार्ड के एक व्यक्ति का आरडी टेस्ट में कोरोना पाॅजीटिव आने की जानकारी स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त हुई, जिसके उपरांत कोरोना फाइटर्स टीम से जुड़े अधिकारी-कर्मचारी तत्परता से कार्रवाई करते हुए उक्त व्यक्ति को स्वास्थ्य विभाग एवं पुलिस विभाग के विशेष सुरक्षा घेरे में लेकर एम्स रायपुर के लिए एम्बुलेंस में रवाना किया गया। इस बीच जालमपुर वार्ड के प्रत्येक घर में स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा स्वास्थ्य जांच की गई। इसी तरह नगर निगम की टीम के द्वारा हाइपो क्लोराइट लिक्विड का छिड़काव कर

सैनिटाइजेशन किया गया। साथ ही पूरे वार्ड को संवेदनशील क्षेत्र घोषित कर आवाजाही तथा लोगों का घर से निकलना पूर्णतः प्रतिबंधित कर दिया गया। इस दौरान कलेक्टर  रजत बंसल, एसपी  बीपी राजभानू, जिला पंचायत  सी.ई.ओ. श्रीमती नम्रता गांधी तथा एडिशनल एसपी श्रीमती मनीषा ठाकुर द्वारा पूरे क्षेत्र में स्वास्थ्य एवं पुलिस विभाग के अमले की तैनाती का जायजा लिया।


तदुपरांत शाम साढ़े चार बजे कलेक्टर, एसपी, सी.ई.ओ. तथा एएसपी ने मौके पर पहुंचकर यह स्पष्ट किया उक्त पूरी कार्रवाई माॅक ड्रिल के तौर पर की गई, जिसके तहत प्रशासन के विभिन्न विभागों द्वारा निष्पादित किए जाने वाले त्वरित कार्य एवं गतिविधियों का आत्म-आंकलन किया गया। कलेक्टर ने मौके पर मौजूद क्विक रेस्पाॅन्स टीम के सदस्यों को बताया कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए यह आवश्यक था कि गाहे-बगाहे जिले में कभी भी आपात स्थिति निर्मित होती है तो इसे लेकर जिला प्रशासन कितना संजीदा, सतर्क व सचेत है, इसकी जमीनी हकीकत का पता चला। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर जिले में गठित विभिन्न टीमों ने क्विक रिस्पाॅन्स किया, इससे यह बात सिद्ध होती है कि यहां की टीम किसी भी प्रतिकूल स्थिति में अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करने में सक्षम है। माॅक ड्रिल में संबंधित विभागों के अधिकारियों ने बेहतर ढंग से अपने दायित्व का निर्वहन किया, इसके लिए पूरी टीम बधाई के पात्र हैं। इस अवसर पर एसपी तथा सी.ई.ओ. ने भी कहा कि आने वाले समय में किसी आपात स्थिति में चुनौतियों का सामना करने में हम कितन सक्षम हैं, इसके मद्देनजर यह कार्रवाई गोपनीय ढंग से की गई।