श्रमवीरों को कर्मवीरों का सलाम धमतरी पुलिस की एक पहल…

489

पुलिस श्रमवीर एक्सप्रेस में 35 श्रमवीरो को मंजिल तक पहुंचाया….

धमतरी । धमतरी पुलिस ने लॉकडाउन के समय कई ऐसे काम अपनी ड्यूटी को निभाते हुए किया है जो मिसाल बन गई ओर उस कार्य की काफी सराहना भी हुई जिले के कप्तान बी पी राजभानु ,एडिशनल एसपी मनीषा ठाकुर के नेतृत्व में पुलिस की  टीम अपने कार्यो को कुशलता पूर्वक अंजाम तक पहुंचा रही है ऐसा ही एक कार्य पुलिस ने बीते रात किया  दूसरे राज्य से पैदल चल कर आने वाले मज़दूरों को उनके सुरक्षित गंतव्य पहुचाने के सराहनीय कार्य किया किया है ।  इस पूरे कार्य मे ये सबसे बड़ी बात कोरोना संकट के इस दौर में संक्रमण की आशंका के बावजूद प्रधान आरक्षक द्वारा सहर्ष ड्यूटी करना प्रशंसनीय है ।

प्राप्त जानकारी के अनुुसार विशाखापटनम से लगभग 35 श्रमवीर पैदल अपने घर उत्तरप्रदेश के लिए निकल पड़े थे, चलते चलते वे धमतरी जिले की सीमा पर श्यामतराई नाका चेक पोस्ट पर पहुचे, ड्यूटी में तैनात जवानों ने देखा तो अपने कंट्रोलरूम को सूचित करते हुए एसपी बी पी राज भानु और एडिशनल एसपी मनीषा ठाकुर को बताया। सूचना मिलने पर प्रशासन से बात कर 35 लोगों के लिए श्याम तराई मिडिल स्कूल में नहाने, ठहरने और खाने की व्यवस्था कराई गई।


इन श्रमवीरों को सुरक्षित गंतव्य तक पहुचना अपनी जिम्मेदारी मानते हुए पुलिस अधीक्षक धमतरी श्री राजभानु ने थाना प्रभारी अर्जुनी उमेद टंडन के माध्यम से पता किया की ये कैसे गंतव्य तक पहुचेंगे। पता चला कि इन्होंने रायपुर से एक वाहन बुकिंग करवाया हुआ है इसलिए रायपुर तक पैदल जाना है। जानकारी मिलने पर संवेदनशीलता का परिचय देते हुए श्री राजभानु ने अपने एक बस को श्रमवीर एक्सप्रेस में बदल दिया और उन्हें रायपुर तक छोड़ने का निर्णय लिया। इन श्रमवीरों का हेल्थ चेकअप करवाने के साथ ही जब ये श्रमवीर घर जाने के लिए बस में बैठ रहे थे उनके लिए पुलिस विभाग ने मिक्सचर पैकेट बिसकिट्स, पानी आदि की व्यवस्था भी की ।
इन श्रमवीरों को रवाना करने जब खुद पुलिस अधीक्षक अर्जुनी मोड़ पहुचे तो वे सभी एक सुर में भारतमाता की जय के नारे लगाने लगे। जाते जाते उन्होंने बारंबार पुलिस को धन्यवाद किया। इन श्रमवीरों को उनके घर तक पहुंचने के लिए एक ऐसी पहल के संबंध में पूछे जाने पर उत्तरप्रदेश से विशाखापट्नम कमाने खाने के लिए जाना और लाकडाउन के कारण काम बंद होने वापस अपने घर उत्तरप्रदेश पैदल निकलना बताए। उन्होंने धमतरी पुलिस की संवेदनशीलता की प्रशंसा करते हुए धमतरी कप्तान को धन्यवाद दिया। जाते जाते श्रमवीरों आंखों में आंसू छलकने लगे।

धमतरी इंटरप्राइजेस पेट्रोल एजेंसी ने बस रखने के लिए स्थान दिया, जहाँ ये श्रमवीर एक्सप्रेस रखी जायेगी। विभाग ने प्रधान आरक्षक मनोज ध्रुव को जब ड्यूटी बताते हुए कहा कि जितने दिन आप इस बस का उपयोग करेंगे आपको अलग रहना होगा इस पर वह सहर्ष कर्तव्य निर्वाहन के लिए तैयार हो गए और कहा इन श्रमवीरों को घर पहुचने के लिए हम कुछ दिन अपने घर से दूर हों तो भी कोई गम नही।कंट्रोलरूम के पास एक कमरे में प्रधान आरक्षक के अलग से रहने की व्यवस्था की गई है जहाँ पुलिस लाइन से समय-समय पर नाश्ता व भोजन पैकेट प्रधान आरक्षक हेतु पहुचाया जाएगा। ये बस किसी अन्य ड्यूटी हेतु प्रयोग नही की जाएगी, साथ ही दिन में दो बार बस को सेनेटाइज किया जाएगा। सेनेटाइजर स्प्रे अलग से इस वाहन में रखा गया है। जिले के किसी भी नाकेबंदी पॉइंट से पैदल यात्रियों की सुचना मिलने पर उनकी सहायता करेगी।
कोरोना संकट के इस दौर में संक्रमण की आशंका के बावजूद प्रधान आरक्षक द्वारा सहर्ष ड्यूटी करना प्रशंसनीय है। इस संकट के समय में पुलिस अधीक्षक स्वयं ही अपने जवानों और उनके परिवारों का ध्यान रखे हुए हैं।