शिक्षक भर्ती प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ने पर 14580 अभ्यर्थियों की चिंता बढ़ी 

475

अभाविप ने दी आंदोलन की चेतावनी

धमतरी | शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में पदस्थापना में हो रहे  विलम्ब के विरोध मे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने  मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन कलेक्टर को ज्ञापन सौपा। परिषद ने कहा  कि  प्रदेश मे नियमित शिक्षको की अवश्यकता लंबे समय से अनुभव की जाती रही है। शिक्षक भर्ती 2019 का विज्ञापन आने के पश्चात् आशा की एक किरण भी जगी थी, किंतु विज्ञापन के बाद 17 माह और चयनित अभ्यर्थियों के दस्तावेज सत्यापन के बाद 8 महीने बीत जाने के उपरान्त भी पदस्थापना नहीं हो सकी है। जिसके वजह से सभी 14580 अभ्यर्थियों की चिंता बढ़ गई है।


अभाविप प्रदेश मंत्री श्री शुभम जायसवाल ने कहा कहा  कि व्याख्याता भर्ती परीक्षा के परिणामों की वैधता 30 सितंबर को खत्म होने से पहले पदस्थापना क्यों नहीं की जा रही है? छत्तीसगढ़ के सभी स्कूलों में विषय विशेषज्ञ शिक्षकों की कमी होने के कारण नियुक्ति शीघ्रातिशीघ्र की जानी चाहिए | प्रांत क्रीड़ा प्रमुख  परिचय मिश्रा ने कहा  कि शिक्षक भर्ती के विषय पर ही आर्थिक संकट का बहाना क्यों, जबकि इसे पिछले सत्र के बजट में ही शासन द्वारा स्वीकृत किया जा चुका है। नियमित शिक्षकों को न लेकर समान वेतन पर ही संविदा भर्ती करना समझ से परे हैं।  अभाविप  ने आगे कहा  कि  शिक्षक भर्ती 2019 की पदस्थापना संबंधी  प्रक्रिया को आगे न बढ़ाने पर परिषद 28 अगस्त को प्रदेश के सभी विकासखंड मे सांकेतिक धरना प्रदर्शन आन्दोलन  के लिए बाध्य होगी।
मौके पर जिला संयोजक वेद प्रकाश साहू, चंदराम साहू, ओमेश यादव, भूषण सिन्हा, पूजा यादव, रुपाली सोनी, साक्षी गुप्ता,वंदना, विक्की अग्रवाल, सुभाष यादव,धनेंद्र साहू समेत  बड़ी संख्या में अभाविप कार्यकर्ता उपस्थित थे।