शराब भट्टी में हुए लूट का खुलासा, दुकान से लूटी गई तिजोरी बरामद, 05 आरोपी गिरफ्तार

178

थाना मगरलोड क्षेत्रांतर्गत शराब भट्टी में हुए लूट का खुलासा,आरोपियों की निशानदेही पर देसी मदिरा दुकान से लूटी गई तिजोरी बरामद, आरोपियों द्वारा घटना में प्रयुक्त औजार हथौड़ी, छेनी, फरसा, पेंचिस बरामद 24 घंटे के भीतर घटना में संलिप्त 01 अपचारी बालक सहित 05 आरोपी गिरफ्तार घटना का मुख्य आरोपी गजानंद मदिरा दुकान का था पूर्व कर्मचारी

थाना मगरलोड एवं साइबर सेल की संयुक्त कार्यवाही

धमतरी  |1 फरवरी  की मध्य रात्रि मगरलोड स्थित देसी मदिरा दुकान में अज्ञात आरोपियों द्वारा लूट की घटना कारित कर देसी मदिरा दुकान से तिजोरी को लूट कर ले गए। उक्त घटना पर थाना मगरलोड में अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध अपराध क्रमांक 43/2021 धारा 392, 458, 427 भादवि के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया।

घटना की सूचना पाकर पुलिस अधीक्षक श्री बी.पी. राजभानु, उप पुलिस अधीक्षक श्रीमती सारिका वैद्य तत्काल घटनास्थल पहुंचकर डॉग स्क्वाड एवं फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट को बुलवाकर घटनास्थल का निरीक्षण किया गया एवं अज्ञात आरोपियों की पतासाजी हेतु उप पुलिस अधीक्षक श्रीमती सारिका वैद्य के नेतृत्व में पुलिस टीम गठित कर सूक्ष्मतम जांच करने के निर्देश दिए।

वरिष्ठ अधिकारियों के दिशा निर्देश में टीम के सभी सदस्य घटनास्थल का बारीकी से निरीक्षण कर पूर्व में शराब दुकान में हुई लूट की वारदात का विश्लेषण कर आगे की रणनीति तैयार की गई। साइबर टीम के द्वारा त्वरित घटनास्थल एवं उसके आसपास से तकनीकी साक्ष्य एकत्रित कर विश्लेषण किया गया। इसी बीच टीम को सटीक और विश्वसनीय सूचना मुखबिर से प्राप्त हुई कि उक्त वारदात में शराब भट्टी में पूर्व में कार्यरत कर्मचारी का हाथ होने की पूर्ण संभावना है। उक्त सूचना पर आगे तस्दीक करते हुए देसी मदिरा दुकान के पूर्व कर्मचारियों की पता तलाश की गई। जिसमें गजानंद वर्मा निवासी चारभाठा पर प्रथम दृष्टया संदेह हुआ। जिसके आधार पर गजानंद वर्मा को हिरासत में लेकर पूछताछ किया गया।

प्राथमिक पूछताछ में गजानंद वर्मा टाल-मटोल करता रहा, जिससे पृथक पृथक निरंतर कड़ाई से पूछताछ करने पर अपने अन्य साथियों ललित महानंद, करण वर्मा, याजेंद्र साहू एवं एक नाबालिग बालक को घटना में संलिप्त होना बताया तथा दिनांक 01/02/2021 के 15 दिवस पूर्व से वारदात को घटित करने योजना बनाएं। दिनांक 01-02/02/2021 के दरमियानी रात्रि उपरोक्त सभी मिलकर अपने साथ हथौड़ी, छेनी, फरसा, पेंचिस आदि घातक हथियारों से लैस होकर देसी मदिरा दुकान मगरलोड के पास गए। छुपाव हेतु सर्वप्रथम बिजली के तार को काटकर अंधेरे का लाभ लेते हुए वारदात को अंजाम देने दुकान में मौजूद गार्ड के रूम का शटर बाहर से बंद कर दोनों गार्ड को बंधक बना लिये तथा अपने साथ लाए हथौड़ी से दुकान के शटर का ताला तोड़कर अंदर प्रवेश किए। शराब दुकान के मध्य कमरे में स्थित दीवार में फिक्स्ड तिजोरी को हथौड़ी से तोड़ने का प्रयास किए किंतु तिजोरी का दरवाजा नहीं खुलने व उसमें रखी रकम हासिल नहीं होने की स्थिति में तिजोरी को ही दीवार से उखाड़ कर ललित, गजानंद और नाबालिग के द्वारा दुकान के पीछे ले जाकर पुनः तिजोरी तोड़ने का प्रयास किये। अंतिम प्रयास में भी सफल नहीं होने पर तिजोरी को छुपाने के लिए दुकान के पीछे स्थित शीतला तालाब के पानी में डुबो दिए। उक्त 60 किलोग्राम वजनी तिजोरी को आरोपियों की निशानदेही पर बरामद कर घटना में प्रयुक्त औजार को भी जप्त किया गया है।

उल्लेखनीय है कि गजानंद वर्मा पूर्व में उक्त शराब भट्टी में गार्ड एवं मल्टी वर्कर के पद पर काम कर चुका है जिसे पैसे के आमद, रख-रखाव, जमा-निकासी एवं सुरक्षा व्यवस्था के बारे में पूरी जानकारी थी।गजानंद वर्मा एवं ललित महानंद ही वारदात के प्रमुख सरगना है जिनके द्वारा सुनियोजित व योजनाबद्ध तरीके से अपने साथियों याजेंद्र साहू, करण वर्मा व अपचारी बालक के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिए हैं।

मामले में उपलब्ध साक्ष्य, आरोपियों के मेमोरेंडम कथन व अपराध स्वीकारोक्ति के आधार पर पृथक-पृथक विधिवत गिरफ्तार कर वैधानिक कार्यवाही की गई है। गिरफ्तार सभी आरोपियों को न्यायिक रिमांड हेतु माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जाएगा।

गिरफ्तार किए गए आरोपियों के नाम-
1. गजानंद वर्मा पिता पुर्रु राम वर्मा उम्र 25 वर्ष साकिन चारभाठा
2. करण वर्मा पिता हेमलाल वर्मा उम्र 25 वर्ष साकिन चारभाठा
3. ललित महानंद पिता श्यामलाल महानंद उम्र 19 वर्ष साकिन चारभाठा
4. याजेंद्र साहू पिता स्वर्गीय खिलावन साहू उम्र 29 वर्ष साकिन बोड़रा थाना मगरलोड जिला धमतरी

एवं 01 अपचारी बालक

उक्त संपूर्ण कार्यवाही उप पुलिस अधीक्षक श्रीमती सारिका वैद्य के नेतृत्व में निरीक्षक विनोद कतलम, प्रणाली वैद्य, उमेंद टंडन, उप निरीक्षक नरेश बंजारे (प्रभारी साइबर सेल), सुभाष लाल, सहायक उपनिरीक्षक प्रकाश सोनी, थाना मगरलोड स्टाफ एवं साइबर टीम का विशेष योगदान रहा।