विधायक ने चायवाली से करवाया ध्वजारोहण निभाया राष्ट्रीय दायित्व

212

धमतरी|  भारतीय जनता पार्टी की युवा इकाई द्वारा पिछले कई वर्षों से अनवरत रूप से शहर के हृदय स्थल शास्त्री चौक में स्वतंत्रता दिवस एवं गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण किया जाता रहा है, इस वर्ष विधायक रँजना डिपेन्द्र साहू को ध्वजारोहण हेतु आमंत्रित किया गया था, वे जब स्थल पर पहुंच कर पार्टी के वरिष्ठ गजराज जैन , निगम के पूर्व सभापति राजेंद्र शर्मा के साथ महात्मा गांधी जी , लालबहादुर शास्त्री जी की पूजा अर्चना कर ली |

तभी सहसा बीते लगभग 10 वर्षों से अलसुबह सुबह 4:00 बजे मकई चौक में ठेला लगाते हुवे, अपने बेटे गीरिश साहू के साथ चाय बेचने वाली मकेश्वर वार्ड निवासी शशि साहू को देखकर बरबस विधायक श्रीमती साहू उनके ठेले में पहुंच कर उसे अपने साथ लेकर झंडोत्तोलन स्थल पर पहुंची तथा उससे ही ध्वजारोहण करा कर समाज को एक संदेश दे गई की राष्ट्र बड़ा है, कर्तव्य पथ महान है। समाज का प्रत्येक व्यक्ति का राष्ट्रीय दायित्व के निर्वहन में एकसमान एवं सामूहिक भागीदारी सुनिश्चित होना चाहिए। इससे वंचित लोगों को संयोजित करना हम सबका राष्ट्रीय धर्म एवं मानवीय संवेदना का उत्कृष्ट उदाहरण प्रस्तुत करने वाला अनुपम कार्य है, यही भारतीय लोकतंत्र की विश्व के समक्ष सबसे बड़ी विशेषता व खूबसूरती तथा अन्य देशों से हमें पृथक करने वाला है ,जो हमारे ही देश में संभव है जहां एक चाय वाला नरेन्द्र भाई मोदी देश का प्रधानमंत्री बन कर राष्ट्र की सेवा कर रहे हैं । युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष राजु सिन्हा ने कहा कि संघर्ष को चुनौती के रूप में स्वीकार करते हुवे जीवन यापन करने वाले लोग वास्तव में समाज के लिए आदर्श बनकर महान हो जाते हैं, गणतंत्र का यह हमारा राष्ट्रीय पर्व भी ऐसे लोगों के समर्पण से अपनी सच्ची सार्थकता का आस्था व श्रद्धा पूर्ण गाथा लिखकर अमर हो जावेगा। इससे पूर्व श्रीमती शशि साहू का स्मृति चिन्ह, साडी व श्रीफल से सम्मान सभी उपस्थित लोगों द्वारा किया गया।
उक्त अवसर के जिला संवाद प्रमुख शिवदत्त उपाध्याय, नगर निगम नेता प्रतिपक्ष नरेंद्र रोहरा, नगर निगम पूर्व सभापति राजेंद्र शर्मा, युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष राजीव सिन्हा, पार्षद विजय मोटवानी, हेमंत बंजारे, जिला पंचायत सदस्य दमयंती केशव साहू, लक्की डागा देवेश अग्रवाल, ममता सिन्हा, सरिता यादव, अभिषेक शर्मा, आशीष शर्मा, कुलेश सोनी, केवल साहू, सुरेश, राजू सिशोलिया साक्षी बने ।