राजनीति में महिलाओं को निभानी चाहिए बढ़-चढ़कर भागीदारी: विद्यादेवी

886

महिला कांग्रेस ने 37 वां स्थापना दिवस मनाया

धमतरी | महिला कांग्रेस ने अपना 37 वां स्थापना दिवस मनाया। महिला कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष सुष्मिता देव, महिला कांग्रेस छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष फूलो देवी नेताम के निर्देशानुसार, धमतरी ग्रामीण जिलाध्यक्ष विद्या देवी साहू के नेतृत्व में जिला कांग्रेस कार्यालय रायपुर रोड बठेना चौक में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के छायाचित्र में माल्यार्पण कर महिला कांग्रेस का झंडा फहराया गया। तत्पश्चात वृद्धा आश्रम रुद्री मे फल वितरण किया गया।

कार्यक्रम के दौरान संगठन एवं समाज में आगे आकर प्रतिनिधित्व करने एवं सक्रिय सहभागिता निभाने के लिए सुश्री राजकुमारी दीवान (उपाध्यक्ष अनुसूचित जनजाति विभाग छत्तीसगढ़ शासन), कांति सोनवानी अध्यक्ष (जिला पंचायत धमतरी) शारदा साहू (अध्यक्ष जनपद पंचायत कुरूद) गुंजा साहू (अध्यक्ष जनपद पंचायत धमतरी), ज्योति ठाकुर (अध्यक्ष जनपद पंचायत मगरलोड) विद्या देवी साहू (अध्यक्ष ग्रामीण जिला महिला कांग्रेस) सहित संगठन के अन्य पदाधिकारियो का प्रतीक चिन्ह भेंटकर सम्मान किया गया। इस दौरान जिलाध्यक्ष विद्या देवी ने महिलाओं से राजनीति में बढ़-चढ़कर भागीदारी करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि अगर पार्टी में महिलाओं की भागीदारी सम्मानजनक तरीके से होती है तो आने वाले विधानसभा चुनाव में प्रदेश में पुनः कांग्रेस पार्टी की सरकार बनने से कोई नहीं रोक सकता। राजकुमारी दीवान ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी राजनीति में पुरुषों की तरह ही महिलाओं की भागीदारी के पक्षधर थे। हर मंच में इसके लिए आह्वान भी करते थे। महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए कांग्रेस पार्टी हमेशा अग्रसर रही है। जिला पंचायत सभापति गोविंद साहू ने कहा कि अगर महिलाओं के बीच पार्टी की नीतियों को पहुंचाते हैं तो पार्टी का आधार घर-घर तक हो जाएगा।

कार्यकर्ताओं से महिलाओं को पार्टी  की सदस्यता दिलवाकर मजबूत बनाने की बात  कही । जनपद अध्यक्ष कुरूद शारदा साहू ने कहा कि यौन उत्पीड़न को खत्म करने के लिए भी कांग्रेस ने लगातार प्रयास किए। कार्यस्थल पर महिला उत्पीड़न (रोकथाम और संरक्षण अधिनिय (2013) नियम भी बनाया। महिलाओं की सुविधा और आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए साल 1985 में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने महिला और बाल विकास विभाग की स्थापना की। इस दौरान राजकुमारी दीवान (उपाध्यक्ष अनुसूचित जनजाति छत्तीसगढ़ शासन), कांति सोनवानी (अध्यक्ष जिला पंचायत धमतरी), विद्या देवी साहू (अध्यक्ष जिला महिला ग्रामीण) जगजीत कौर (प्रदेश सचिव), शारदा साहू (अध्यक्ष जनपद पंचायत कुरूद), गुंजा साहू (अध्यक्ष जनपद पंचायत धमतरी), ज्योति ठाकुर (अध्यक्ष जनपद पंचायत मगरलोड), तारिणी चंद्राकर, मीणा बंजारे, सुमन साहू, कुसुमलता साहु, कांति कंवर, अनीता ठाकुर मीणा सोन, गोविंद साहू, संतोष साहू, तोषण साहू, संकेत गुप्ता सहित बड़ी संख्या में महिला कांग्रेस के सदस्य एवं कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित रहे|

ज्ञात हो कि महिला कांग्रेस का दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन बंगलुरु में 15 से 16 सितंबर 1983 में हुआ था। इसका उद्घाटन स्व.इंदिरा गांधी ने किया था और समापन स्व.राजीव गांधी  के उद्बोधन से हुआ था। एक नए संविधान को अपनाते हुए महिला कांग्रेस सेल को स्वायत्ता देकर आल इंडिया महिला कांग्रेस नाम दिया गया। आल इंडिया महिला कांग्रेस, एआईसीसी के अंतर्गत एआईसीसी अध्यक्ष की अनुमति से 15 सितंबर 1983 से स्वतंत्र कार्य करने लगी।