युवोदय अभियान के तहत स्कूल-काॅलेज में आयोजित की गई परिचर्चा

665

धमतरी|  कलेक्टर श्री रजत बंसल के विशेष पहल पर जिले के युवाओं के उत्थान और उनसे जुड़ी योजनाओं के प्रति उनमें जागरूकता लाने आज से 20 फरवरी तक युवोदय सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। आज इसी कड़ी में स्कूल-कॉलेजों में परिचर्चा का आयोजन किया गया। मिली जानकारी के मुताबिक स्थानीय बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव स्नातकोत्तर महाविद्यालय में कला, वाणिज्य, विधि एवं विज्ञान संकाय के छात्र-छात्राओं को युवोदय योजना की जानकारी विस्तार से देते हुए युवाओं को समाज से जोड़ने की अपील की गई। इस मौके पर गांधीजी की विचारधारा, कुपोषण मुक्ति, नशा मुक्ति अभियान, स्वच्छ भारत मिशन, नवाचार, कैरियर काउंसिलिंग एवं रोजगार के अवसर पर भी प्रकाश डाला गया। इसके अलावा सुबह 11 बजे से नशामुक्ति, स्वच्छ भारत मिशन एवं कुपोषण विषय पर परिचर्चा रखी गई, जिसमें 22 विद्यार्थियों ने हिस्सा लेकर अपने विचार व्यक्त किए। परिचर्चा में पहले स्थान पर विधि की छात्रा कुमारी पूनम सालुंके, दूसरे स्थान पर कुलदीप और तीसरे स्थान पर कुमारी पुष्पिका रहीं।


इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ.चन्द्रशेखर चैबे ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए आगामी 20 फरवरी तक युवोदय अभियान चलाए जाने की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आगामी 20 फरवरी को ग्राम कण्डेल में जिला प्रशासन द्वारा आयोजित युवोदय अभियान में महाविद्यालय के विद्यार्थी पूरी तरह सहयोग देंगे। उन्होंने कहा कि युवोदय अभियान प्रतिमाह चलाया जाएगा, जिसके तहत नशामुक्ति, स्वच्छता, कुपोषण, कैरियर काउंसिलिंग, गांधीजी विचारधारा इत्यादि विषय पर युवाओं को जागरूक कर उन्हें समाज से जोड़ने की अपील की जाएगी। इस अवसर पर महाविद्यालय के विद्यार्थी और प्राध्यापकगण उपस्थित रहे।


इसी तरह स्थानीय शिव सिंह वर्मा आदर्श शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में भी युवोदय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान स्कूली विद्यार्थियों के बीच परिचर्चा आयोजित की गई। इसमें छात्र-छात्राओं ने गांधीजी के विचारों एवं युवोदय विषय पर अपने विचार प्रस्तुत किए। इनमें कुमारी डिम्पल सोनकर, कुमारी रीना कश्यप, हर्ष यादव, कुमारी ममता, ऋशांत, ऐश्वर्य, कुमारी मोनिका और कुमारी सना परवीन शामिल हैं। इसी तरह स्कूल कीे प्राचार्य श्रीमती बी.मैथ्यू सहित सहित शिक्षक श्रीमती मीना गुप्ता, श्रीमती लक्ष्मी गौतम, श्रीमती पूजा नायक, डाॅ. कुमारी विजय लक्ष्मी, श्रीमती निधि रणसिंह, श्रीमती सोनिया साहू और श्रीमती मोहरमती राठिया ने भी अपने विचार प्रस्तुत किए।