मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना की मोबाइल मेडिकल यूनिट से पहुच रहा मरीजो को फायदा, नौ महीने में 23 हजार से अधिक का हुआ उपचार

58

कोरोना काल में वरदान साबित हुई मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना की मोबाइल मेडिकल यूनिट, नौ महीने में 23 हजार से अधिक का हुआ उपचार,मोबाइल मेडिकल यूनिट से ठीक हो रहे हैं बीमार,बीमारियों का इलाज अपने ही घर के पास पाकर मरीज हैं काफी खुश

धमतरी | मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना के तहत मोबाइल मेडिकल यूनिट (चलित चिकित्सा इकाई) द्वारा स्लम इलाकों में पहुंचकर मरीजों को घर के नजदीक स्वास्थ्य जांच से उपचार तक की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही हे। जहां एक ओर लोगों के समय और धन की बचत हो रही है, वहीं अपने वार्ड में खुद के ही घर के पास मोबाइल मेडिकल यूनिट पहुंचने और चंद मिनटों में ही जांच के बाद दवा मिल जाने तथा शुगर जैसी बीमारियों का इलाज हो जाने पर मरीज काफी खुश हैं। यहां इलाज कराने वाले श्री चंद्र शेखर साहू, श्री धर्मेश देवांगन, श्री विक्की निर्मलकर, श्री योगेश रंगारी, सुश्री पुष्पा ठाकुर, श्री करण साहू, श्री मुकेश साहू इत्यादि ने योजना की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि यह योजना गरीबों के लिए वरदान साबित हो रही है। शुगर एवं अन्य बीमारी को कंट्रोल करने में योजना सार्थक साबित हुआ है। जांच से उपचार तक की सुविधा यहां मिल रही है। इसके अलावा गंभीर बीमारियों का भी स्वास्थ्य परीक्षण के दौरान पता लगने पर उन्हें उच्च स्वास्थ्य केंद्रों में रिफर किया जा रहा है।


गौरतलब है कि राज्य स्थापना दिवस के मौके पर नवंबर 2020 से शुरू हुए मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना के तहत नगर निगम धमतरी में पैथालॉजी टेस्ट सुविधा युक्त मोबाइल मेडिकल यूनिट धमतरी शहर के स्लम इलाकों में पहुंच कर स्वास्थ्य जांच कर रही है। कैंप के माध्यम से आसपास के लोगों का स्वास्थ्य जांच करने के अलावा बीमारी दूर करने दवाएं भी दी जा रही है। गत नौ महीने में मोबाइल मेडिकल यूनिट से 23 हजार से अधिक मरीजों का उपचार किया गया तथा 19 हजार से अधिक मरीजों को दवाइयां दी गईं और आठ हजार से अधिक मरीजों का लैब टेस्ट भी हुआ है। मोबाइल मेडिकल यूनिट में अत्याधुनिक जांच की मशीनें लगी हुई हैं। इन मशीनों से बीपी, शुगर, खून और पेशाब की जांच मौके पर ही की जाती है। सर्दी, बुखार की दवाइयों के साथ ही बीपी, शुगर जैसी बीमारियों की नियमित जांच और दवाइयां मुफ्त में दी जा रही है।


इसमें डाक्टर की पर्ची के आधार पर फार्मासिस्ट द्वारा 19 हजार से अधिक मरीजों को मुफ्त दवाई दी गई हैं। शिविर के जरिए पैरासिटामोल, ब्रुफेन, मेटफार्मिन, एटेनोलोल, बी-कांप्लेक्स, आयरन, फोलिक एसिड, सिफालेक्सिन, एमोक्सिसिलिन, लिमसी, ओआरएस, टिटेनस इंजेक्शन, रैबिज इंजेक्शन इत्यादि 200 प्रकार की दवाईयों की उपलब्धता मरीजों के लिए सुनिश्चित की जा रही है। इन मोबाइल यूनिट्स में ब्लड-प्रेशर मापने की मशीन, शुगर टेस्ट की मशीन, ईसीजी मशीन, आक्सीजन सिलेंडर इत्यादि की भी व्यवस्था है। निश्चित ही यह योजना स्लम क्षेत्र के गरीब तबके के मरीजों को उनके घर के नजदीक ही स्वास्थ्य लाभ देने में सहायक साबित हो रहा है।