मध्याह्न भोजन योजना के तहत 45 दिन का सूखा राशन किया जाएगा वितरण

569

खाद्य सुरक्षा भत्ता के रूप में 45 दिन का सूखा राशन किया जाएगा वितरण मध्याह्न भोजन योजना के तहत

धमतरी | कोरोना वायरस (कोविड 19) संक्रमण काल में स्कूल बंद रहने की अवधि में मध्याह्न भोजन योजना के तहत गरम पका भोजन नहीं दिया जा सकता है। इस वजह से खाद्य सुरक्षा भत्ता के रूप में बच्चों को सूखा चावल और कुकिंग कास्ट की राशि से अन्य जरूरी खाद्य सामग्री जैसे दाल, तेल, सूखी सब्जी इत्यादि वितरित किया जाना है। प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी श्रीमती रजनी नेल्सन ने सूखा राशन सामग्री वितरण के संबंध में सभी विकासखण्ड शिक्षा अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिया है।
मध्याह् भोजन योजना के गाईडलाईन अनुसार कक्षा पहली से आठवीं तक के ऐसे बच्चे, जिनका नाम शासकीय, अनुदान प्राप्त, अशासकीय स्कूल अथवा मदरसा-मकबा में दर्ज है, मध्याह्न भोजन दिया जाना है। कक्षा पहली एवं छठवीं में जिन बच्चों का नाम दर्ज हो गया है, उन्हीं बच्चों को सूखा राशन वितरण किया जाना है। बताया गया है कि सूखा राशन सामग्री का वितरण सुविधा अनुसार स्कूल अथवा घर-घर पहुंचाकर किया जाना है। वितरण के दौरान बच्चों अथवा पालकों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग, साफ-सफाई बनाए रखना और मास्क लगाना अनिवार्य है। सूखा राशन वितरण में बच्चों को चावल, दाल एवं तेल की मात्रा निर्धारित मात्रा अनुसार ही होनी चाहिए। बच्चों को प्रदाय की जाने वाली सामग्री को अलग-अलग सील बंद पैकेट बनाकर प्रति छात्र सभी सामग्रियों का एक बड़ा पैकेट बनाया जाना है। सूखा राशन वितरण में खाद्य सामग्रियों की गुणवत्ता एवं उसकी निर्धारित मात्रा का विशेष ध्यान रखा जाना है। वितरित की जाने वाली खाद्य सामग्रियां उच्च गुणवत्ता की होनी चाहिए। गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए सामग्रियों के पैकिंग के पूर्व एवं पैकिंग के बाद फोटोग्राफ लेना जरूरी है। सामग्री वितरण के प्रति छात्र शासन द्वारा निर्धारित कुकिंग कास्ट ही प्रदाय किया जाना है।
गौरतलब है कि सूखा राशन के तहत प्राथमिक स्कूल के प्रति छात्र 100 ग्राम चावल, 20 ग्राम दाल, 6.66 ग्राम अचार, 10 ग्राम सोयाबड़ी, पांच ग्राम तेल और नमक 5.55 ग्राम प्रति दिन के मान से 45 दिन का राशन वितरित किया जाएगा। इसी तरह अपर प्राथमिक के प्रति छात्र 150 ग्राम चावल, 30 ग्राम दाल, 10 ग्राम अचार, 15 ग्राम सोयाबड़ी, 7.77 ग्राम तेल और नमक 8.33 ग्राम प्रति दिन की मान से 45 दिन का राशन वितरित किया जाना है। स्कूलों के लिए चावल पूर्व की तरह ही उचित मूल्य की दुकान के माध्यम से प्रदाय किया जाएगा। बताया गया है कि वितरण होने के तत्काल बाद लाभार्थियों की जानकारी मध्याह्न भोजन योजना के साॅफ्टवेयर में प्रविष्ट किया जाना है। इसके मद्देनजर विकासखण्ड शिक्षा अधिकारियों को राशन सामग्री वितरण जल्द से जल्द करा, की गई कार्रवाई से अवगत कराने के लिए निर्देशित किया गया है।