मंत्री बोले- यहां न शाह की चली, न तानाशाही

553

राजस्थान विधानसभा में बीजेपी का हंगामा

राजस्थान | राजस्थान में जारी सियासी दंगल के क्लाइमेक्स का वक्त आ गया है. आज से राजस्थान में विधानसभा का सत्र शुरू हो गया है. शुरुआत में ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा में विश्वास मत प्रस्ताव पेश कर दिया है. सत्र से पहले विधायकों को व्हिप जारी कर दिया गया है. भारतीय जनता पार्टी भी अविश्वास मत प्रस्ताव लाने की तैयारी में थी, लेकिन गहलोत ने पहले ही चाल चल दी. अशोक गहलोत ने दावा किया है कि उनकी सरकार आसानी से बहुमत साबित कर देगी.मंत्री शांति धारीवाल ने सदन में कहा, ‘अमित शाह हिसाब मांग कर रहेगा, छोड़ेगा नहीं’. इस पर राजेंद्र राठौड़ ने आपत्ति जताई और कहा कि इस तरह केंद्रीय गृहमंत्री का नाम नहीं लिया जा सकता. इस पर मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि बात साफ है, पैसा दिया था तो हिसाब मांगा ही जाएगा. संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने बीजेपी नेताओं से कहा कि अमित शाह आपको माफ नहीं करेंगे. वह जवाब मांगेंगे. शांति धारीवाल ने कहा कि जिस तरह से महाराणा प्रताप ने विरोधियों को हराया, उसी तरह अशोक गहलोत ने हराया. राजस्थान में ना किसी शाह की चली, ना तानाशाही की चली. विधानसभा में बीजेपी के नेता हंगामा कर रहे हैं. मंत्री शांति धारीवाल बोल रहे थे, तभी बीजेपी विधायक मदन दिलावर ने हंगामा शुरू कर दिया

स्पीकर सीपी जोशी ने मदन दिलावर और बाकी विधायकों को चेतावनी दी. संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने विधानसभा में कहा कि यह सदन मंत्री परिषद और सरकार में विश्वास प्रकट करता है. इस तरह से सदन में विश्वास मत रख दिया गया है. कांग्रेस नेता कृष्णा पूनिया ने कहा कि बारिश की वजह से विधायकों को सत्र में आने में देरी हुई, हर कोई सावधानी बरत रहा है. हम एक महीने से होटल में थे, लेकिन आजाद थे.