बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए खेलकूद जरुरी : डॉ. सरिता दोशी, सार्थक के 19 बच्चों ने विविध खेलों में लिया हिस्सा

278

धमतरी | मानसिक दिव्यांग प्रशिक्षण केंद्र सार्थक स्कूल धमतरी के विशेष बच्चों का शीतकालीन खेलकूद का आयोजन स्कूल कैंपस में किया गया। सार्थक के 19 बच्चों ने विविध खेलों को उत्साहपूर्वक खेला। खेल का आयोजन सचिव स्नेहा राठौड़ के निर्देशन में प्रशिक्षकों ने कोविड-19 के चलते शासन के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग के साथ  विशेष देखभाल के साथ संपन्न कराया।

कुर्सी दौड़ बालिका वर्ग में देवश्री, भारती, प्रीति, वत्सला, बालक वर्ग में रोशन, लिकेश, मनोहर, अर्जुन ,आदित्य और केला दौड़ बालिका वर्ग में देवश्री, वत्सला, मनीषा, प्रीति, भारती तथा केला दौड़ बालक वर्ग में कुलदीप, अर्जुन, आदित्य, विनीत एवं बुक बैंलन्सींग बालक वर्ग में आदित्य, विनीत, कुलदीप एवं बालिका वर्ग में भारती, प्रीति, वत्सला तथा कैरम में करण, दीपेश, यज्ञदत्त, निखिल ,मनीष एवं पासिंग द बॉल में मनीष, दीपाली, क्रिकेट में यज्ञदत्त, विनीत, निखिल, कुलदीप तथा मटका फोड़ में मनीष, यज्ञदत्त, आदित्य ने हिस्सा लिया।

एकल अभिनय द्वारा करण ने पॉलीथिन और आकाश आहुजा ने गुटखा  पाऊच से होने वाले खतरे को बताया। इस तरह बच्चों ने अपने खेल कौशल द्वारा सबका मन मोह लिया। सार्थक की अध्यक्ष डॉ. सरिता दोशी ने बताया कि बच्चे स्कूल को बहुत याद करते हैं । पालक कई बार पूछते हैं, स्कूल कब खोलेंगे| बच्चे घर में बोर हो रहे हैं। इसलिए खेल कूद के माध्यम से बच्चों को पालकों के साथ स्कूल बुलवाया गया। उन्होंने कहा कि खेलकूद के आयोजन से बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास होता है और यह दिव्यांग बच्चों के लिए जरूरी और फायदेमंद भी है ।

डॉ दोशी ने यह भी बताया कि उनके स्कूल में बच्चों के बीच खेलकूद की प्रतियोगिताएँ नहीं होतीं | सभी बच्चे अपनी क्षमतानुसार और खिलाड़ी भावना से खेलते हैं। दौड़ में अगर एक बच्चा गिर गया तो दूसरा उसे उठाता है और साथ दौड़ता है। इसीलिए सभी बच्चों को प्रोत्साहन के लिए संस्था द्वारा पुरस्कार दिया जाता है। आयोजन को सफल बनाने मे अनिल दुगड़, ज्ञानिक राम सार्बा, डेरहा राम साहू ,आरएन मेश्राम, परमजीत कौर खालसा, सुनीता मंडावी, सुषमा बघेल, रोहित साहू, शकुंतला सोनी, ओमेश्वरी साहू, जीवराज साहू, ललिता तिवारी, प्रशिक्षक सुधापुरी गोस्वामी, मैथिली गोड़े, मुकेश चौधरी, स्वीटी सोनी ,देविका दीवान ,सुनैना गोड़े इत्यादि का सहयोग रहा।