प्रीतेश गांधी बने सर्व गुजराती समाज छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष, सर्वसम्मति से सदस्यों ने किया समर्थन

79

भिलाई | गुजराती समाज भवन भिलाई में सर्व गुजराती समाज छत्तीसगढ़ की प्रदेश स्तरीय बैठक आयोजित हुई, जिसमें सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से नए प्रदेश अध्यक्ष के लिए प्रीतेश गांधी के नाम के प्रस्ताव पर अपना समर्थन देते हुए उन्हें प्रदेश अध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया। इसके साथ ही समाज के संरक्षक हेतु रमेश मोदी, देवजी भाई पटेल, रजनी भाई दवे एवं ललित पुजारा के प्रस्तावित नाम पर सभी ने अपना समर्थन दिया। इस दौरान कोरोनाकाल में संक्रमण से निधन हुए समाज के सदस्यों को श्रद्धांजलि दी गई। बैठक में समाज के 50 से 70 वर्ष की आयु के 25 वरिष्ठजनों को समाज की ओर से निःशुल्क गुजरात के धार्मिक व ऐतिहासिक स्थलों के भ्रमण हेतु तथा 18 से 28 वर्ष की आयु के 25 युवाओं को शिक्षाप्रद कार्यशाला के लिए निःशुल्क गुजरात भ्रमण की योजना बनाई गई।

विदित हो कि प्रीतेश गांधी पिछले कई वर्षों से समाज के विभिन्न पदों पर रहकर प्रदेश भर में गुजराती समाज के लिए निरंतर कार्य करते आ रहें हैं। उन्होंने सामाजिक सहभागिता के साथ ही अपनी सक्रिय भूमिका निभाते हुए समाज के लोगों को एकजुट करने एवं उनके साथ-साथ अन्य समाज के लोगों की सहायता के लिए कई सराहनीय कार्य किये हैं। समाज के प्रति उनके समर्पण और कर्मठ स्वाभाव को देखते हुए सर्व गुजराती समाज छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष के लिए नाम प्रस्तावित किया था जिस पर सर्वसम्मिति से प्रीतेश गांधी को सभी सदस्यों ने अपना समर्थन दिया। प्रीतेश गांधी ने संस्था के माध्यम से समाजसेवा समेत विभिन्न धार्मिक, सांस्कृतिक और अन्य आयोजनों में अपनी सक्रिय भूमिका निभाई है जिसे देखते हुए उन्हें प्रदेश अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

इस अवसर पर सर्व गुजराती समाज छत्तीसगढ़ के भिलाई से रजनी दवे, दुर्ग से प्रफुल दीक्षित, धमतरी से लखमशी भानुशाली, प्रकाश गांधी, हरि कटारिया, महेन्द्र राजपुरिया, रायपुर से श्रीमती भावना टाँक, हिम्मत पटेल, प्रकाश पटेल, सुनील पंडिया, अम्बिकापुर से रमेश पटेल, कोरबा से मनोज शर्मा, बिलासपुर से जयेश पटेल, अरविंद भानुशाली, भाटापारा से रमेश श्रीमाली, गरियाबंद से हरीश ठक्कर, कांकेर से राजगोपाल कोठारी, कोंडागाँव से कमलेश मोदी, जगदलपुर से विवेक सोनी, प्रीतेश दोशी , राजनांदगाँव से हिम्मतलाल, बालोद से भरत गांधी, राजू पटेल, महासमुंद से प्रफुल गम्भीर, दल्लीराजहरा से विपिन लखानी ने प्रीतेश गांधी का नाम प्रदेश अध्यक्ष के लिए प्रस्तावित किया जिसे सभी सदस्यों ने ध्वनिमत के साथ समर्थन दिया।

प्रीतेश गांधी ने कहा कि मैं सर्व गुजराती समाज छत्तीसगढ़ के सभी सदस्यों का आभार व्यक्त करता हूँ जिन्होंने मुझे अपना सहयोग एवं समर्थन दिया है। इस जिम्मेदारी का मैं पूरे समर्पण के साथ निर्वहन करते हुए समाज के हर तबके तक संस्था के सेवाकार्यों के माध्यम से पहुंचेंगे। उन्होंने कहा कि फोरम के सेवा कार्यों को नई दिशा देने के लिए हम अपने धार्मिक-सांस्कृतिक क्षेत्रों के अलावा हर समाज व तबके के बीच पहुंचेंगे और उनके जीवन को खुशहाल बनाने की योजनाओं पर भी कार्य करेंगे। सर्व गुजराती समाज के लोग राष्ट्र और जनता के हित में अपनी अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं। यहां तक कि देश की तरक्की और विकास में भी अहम योगदान दे रहे है। 

उन्होंने आगे कहा कि जिस प्रकार  पूर्व में समाज ने पूरी एकजुटता के साथ देश के हर व्यक्ति और वर्ग के कल्याण और सहयोग के लिए कार्य किया है आगे भी हम उस निष्ठा और निःस्वार्थ भाव से कार्य करते रहेंगे और प्रदेश के साथ-साथ देश के विकास और आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए अपना दायित्व निभाते रहेंगे। समाज मनुष्य के लिये वह  प्रतिविम्ब है जिसमें प्रत्येक दिवस वह अपने साथ-साथ उससे जुड़े लोगों की अभिलाषाओं एवं आकांक्षाओं को पूरा होते देखता है| हालांकि यह सर्वविदित है कि समाज का निर्माण मनुष्य ने किया है परन्तु वर्तमान में समाज मनुष्य के जीवन का अभिन्न अंग बन गया है। समाज मनुष्य के विचारों की अभिव्यक्ति करता है और यह समाज ही तो है जो आदिकाल से मनुष्य की सभ्यता एवं संस्कृति का उद्घोषक रहा है। समाज हमेशा जीवित रहता है उन गौरव गाथाओं के परिचायक के रूप में जो उसके अस्तित्व की पहचान को परिलक्षित करती है। बैठक में प्रमुख रूप से मुकेश भाई टांक, श्रीमती भगवती टांक, चिमनलाल पटेल, दीपक छावड़ा, निलेश वाघेर, दिलीप भाई ठक्कर, दीपक सोलंकी, मुकुंद दीक्षित, ललित कुमार पंड्या, नितिन पंड्या, योगेश त्रिवेदी, लक्ष्मी नारायण विश्वा, दीपक चावड़ा, राजेश नथवानी, प्रकाश भाई, कौशिक दवे, अमित कारिया, विवेक टांक, पंकज वड़ोडीया, हेमंत मेहता, दिनेश, गिरीश सांवरिया, अनिल कुमार शाह, जयनेन्द्र कुमार पटेल, मनीष नथवानी सहित दुर्ग, भिलाई, धमतरी, राजनांदगांव, अंबिकापुर, बिलासपुर, खुर्सीपार, भाटापारा, गरियाबंद, राजिम नवापारा, जगदलपुर, कोंडागांव, बालोद, दल्लीराजहरा सहित समाज के विभिन्न शहरों से आए सदस्य, विशिष्ठजन उपस्थित थे।

tushar