प्राचीन मकेश्वर महादेव भगवान का जनप्रतिनिधियों ने किया जलाभिषेक सावन के तीसरे सोमवार भक्ति के सरोबार मे डुबे रहे श्राद्धालू

37

धमतरी | सावन के महीने को भगवान शंकर तथा माता पार्वती के प्रति पूजा अर्चना कर आस्था व श्रद्धा के समर्पण का समर्पण माह के रूप में मनाने का सनातन धर्म विधान किया गया है कहा तो यहां तक जाता है कि इस महीना भगवान शंकर ने माता पार्वती को संपूर्ण जगत के संबंध में कथा हिमालय पर्वत में बैठकर सुनाई थी |

उक्त माह में शहर सहित क्षेत्र में पूरे दिवस भक्ति में सरोबार श्रद्धालुओं का उत्साह चरम पर होता है शहर के हृदय स्थल तथा मकई तालाब के किनारे स्थित प्राचीन शिवलिंग जो मक्केश्वर महादेव के नाम से संपूर्ण मकेश्वर वार्ड सहित आसपास के क्षेत्र का धार्मिक केंद्र बिंदु है वहां सावन माह के तीसरे सोमवार को नगर निगम के पूर्व सभापति राजेंद्र शर्मा भाजपा जिला कोषाध्यक्ष चेतन हिंदूजा नेता प्रतिपक्ष नरेंद्र रोहरा भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष विजय मोटवानी प्रदेश कार्यसमिति सदस्य जय हिंदुजा तथा गोपाल कटारिया ने भगवान भोले भंडारी का सहस्त्र अभिषेक करते हुए क्षेत्र के सुख शांति समृद्धि और खुशहाल मानव जीवन की प्रार्थना की उक्त विधान को संपन्न कराने वाले वेद पाठी शास्त्री पंडित करण महाराज ने बताया कि संपूर्ण भारतवर्ष तथा मानव समुदाय के हिमालय में बैठे हुए सानिध्यदाता भगवान भोले- शंकर को प्रसन्न करने का महीना सावन है इस दिवस पूरी निकलता भक्ति भाव से कोई भी भक्तजन भगवान शंकर की पूजा आराधना करते हैं उनकी मनोकामना निश्चित ही पूरी होती है आज यदि भारत अपने धर्म व अध्यात्म के कारण विश्व में अलग स्थान रखता है ।तो उसका एक प्रमुख आधार पूरे देश भर तथा विश्व में सनातन धर्म को मानने वाले सारे लोगों का सावन माह में भक्ति भावना का संचार करते हुए उमडने वाला धार्मिक शैलाब है ,और यहीं से समृद्धि का रास्ता खुलता है, मक्केश्वर महादेव प्राचीन काल से स्थापित जागृत शिवलिंग के रूप में हम सबके आस्था का केंद्र बिंदु है।