प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल की, एक रुपया का जुर्माना भरा

371

नई दिल्ली| अदालत की अवमानना मामले में दोषी प्रशांत भूषण ने 1 रु का जुर्माना बैंक ड्राफ्ट के रूप में आज भरा. इसके बाद उन्होंने फैसलों को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचाका दाखिल की. उन्होंने एक रुपया जमा कराते हुए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कहा था कि ऐसा नहीं है कि हमने फैसला स्वीकार किया है. पुनर्विचार याचिका दाखिल करूंगा. सुप्रीम कोर्ट ने 31 अगस्त को अपनी अवमानना के मामले में वकील प्रशांत भूषण को 1 रुपया जुर्माने की सजा दी थी.

शीर्ष अदालत ने कहा था कि अगर प्रशांत भूषण यह जुर्माना 15 सितंबर तक जमा नहीं कराएंगे, तो उन्हें 3 महीने के लिए जेल भेजा जाएगा. 3 साल तक वकालत पर भी पाबंदी लग जाएगी. 27 जून और 29 जून को प्रशांत भूषण ने वर्तमान चीफ जस्टिस और 4 पूर्व चीफ जस्टिस पर 2 विवादित ट्वीट किए थे. कोर्ट ने इस पर संज्ञान लेते हुए उनसे जवाब मांगा था. उन्होंने अपने बयान पर सफाई देते हुए जो जवाब दाखिल किया, उसमें जजों पर और ज्यादा इल्जाम लगा दिए. कोर्ट ने इस स्पष्टीकरण को अस्वीकार करते हुए 14 अगस्त को उन्हें अवमानना का दोषी करार दिया. कोर्ट ने उन्हें बिना शर्त माफी मांगने के लिए समय दिया. लेकिन भूषण ने इससे मना कर दिया.