पेयजल की गुणवत्ता को लेकर किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा

487

पेयजल की गुणवत्ता के लिए पानी का लगातार परीक्षण करें
लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं जल संसाधन विभाग की बैठक लेकर कलेक्टर ने दिए निर्देश

धमतरी|  कलेक्टर  रजत बंसल ने आज अपराह्न लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं जल संसाधन विभाग की समीक्षा बैठक लेकर पेजयल आपूर्ति एवं तालाबों को भरने के संबंध में समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से यह स्पष्ट रूप से कहा कि पेयजल की गुणवत्ता को लेकर किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा। पीलिया जैसे जलजनित रोग की एक भी शिकायत मिलने पर संबंधित के विरूद्ध सख्ती से कार्रवाई की जाएगी

उन्होंने अधूरे निर्माण कार्यों को पूर्ण करने के लिए हरहाल में सोशल एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करने के भी निर्देश बैठक में दिए।
आज अपराह्न 3.30 बजे कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित बैठक में कलेक्टर ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की समीक्षा करते हुए विकासखण्डवार पेयजलापूर्ति के बारे में जानकारी ली। साथ ही नलजल योजना के तहत लंबित निर्माण कार्यों को पुनः शीघ्रता से प्रारम्भ कराने के लिए निर्देशित किया। गर्मी के मौसम को देखते हुए हैण्डपम्पों की स्थिति, भूजल स्तर और पानी की गुणवत्ता की स्थिति के लिए कलेक्टर ने जिला पंचायत की सी.ई.ओ. श्रीमती नम्रता गांधी को ग्राम पंचायतों से जानकारी मंगवाकर वास्तविक जानकारी लेने के लिए कहा। इसके अलावा उन्होंने नगरपालिक निगम क्षेत्रांतर्गत आपूर्ति होने वाले पेयजल की गुणवत्ता नियमित रूप से परीक्षण करने की बात कही। उन्होंने आगे कहा कि पीलिया जैसे जलजनित रोग की शिकायत कहीं से भी नहीं मिलनी चाहिए। ऐसी स्थिति में संबंधित अधिकारी पर सीधे सख्ती से कार्रवाई करने के निर्देश कलेक्टर ने दिए तथा पाइपलाइन के जाॅइन्ट की जांच सतत् करने के लिए भी निर्देशित किया। बैठक में कार्यपालन अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने बताया कि जिले में कुल 9856 हैण्डपम्प हैं, जिनमें से 9570 वर्तमान में चालू स्थिति में हैं। 48 हैण्डपम्प का सुधार कार्य प्रगति पर है तथा 238 हैण्डपम्प भूजल स्तर के गिरने के कारण बंद हैं। इसी तरह जिले में 261 नल जल योजना स्वीकृत हैं जिनमें से 200 रनिंग कंडीशन में है तथा 32 कार्य लाॅकडाउन के कारण लंबित हंै। इस पर कलेक्टर ने स्पष्ट किया कि पेयजल आवश्यक सेवा है जो कि प्रतिबंध से बाहर है, इसलिए सभी प्रगतिरत 32 में अंतर्विभागीय समन्वय स्थापित कर कार्य तत्काल शुरू कराएं। कार्यपालन अभियंता ने बताया कि हैण्डपम्प संबंधी शिकायत अथवा जानकारी के लिए विभाग द्वारा टोल फ्री नंबर 18002330008 भी जारी किया गया है।
इसके अलावा कलेक्टर ने जल संसाधन विभाग की समीक्षा करते हुए 15 मई से 15 जून के मध्य नहरों की साफ-सफाई कराने, नगर निगम के तालाबों को भरने आवश्यकतानुसार पानी छोडने, चेक डैम, स्टाॅप डैम का सुधार एवं मेंटेनेंस कार्य शीघ्रता से करने तथा विभाग में मनरेगा मद से संचालित निर्माण कार्यों को आगामी 15 जून से पहले हरहाल में पूर्ण करने के निर्देश दिए। बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी संभाग तथा जल संसाधन विभाग के अधिकारीगण उपस्थित थे।