पेट्रोलिंग के लिए मिले तीन अर्टिगा वाहन,  सड़क दुर्घटना में मिलेगी तत्काल मदद 

549

धमतरी |  विगत कुछ समय से यातायात के बढ़ते दबाव और राष्ट्रीय राजमार्गों में हो रही सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के उद्देश्य के साथ-साथ यात्रियों के सुगम, सुरक्षित और निर्बाध आवागमन तथा मुख्य मार्गों में हो रही लूटपाट की घटनाओं पर प्रभावी अंकुश लगाने के मद्देनजर सतत निगरानी रखने हेतु 3 हाईवे पेट्रोलिंग वाहनों को जिले के राष्ट्रीय राजमार्ग, राज्यीय मार्ग एवं अन्य मुख्य मार्गों में चलाया जाएगा, जिसका सेटअप तैयार किया गया है। पुलिस अधीक्षक बी.पी. राजभानु ने तीनों हाईवे पेट्रोलिंग के सुचारू रूप से संचालन हेतु रूट निर्धारित करते हुए संलग्न किए गए अधिकारी-कर्मचारियों को पुलिस कार्यालय में ब्रीफ करते हुए प्रशिक्षण देकर दिशा-निर्देश दिये तथा जिन क्षेत्रों में हाईवे पेट्रोलिंग वाहन का रूट निर्धारित किया गया है | उस क्षेत्र के थाना प्रभारियों की भी जवाबदारी निर्धारित करते हुए समुचित व्यवस्था हेतु ऑनलाइन निर्देश दिया गया। तत्पश्चात पुलिस अधीक्षक द्वारा तीनों हाईवे पेट्रोलिंग वाहनों को अर्जुनी मोड से संध्या 5 बजे झंडी दिखाकर रवाना किया गया।  

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती मनीषा ठाकुर रावटे ने बताया कि हाईवे पेट्रोलिंग वाहनों पर मॉनिटरिंग एवं प्रभावी नियंत्रण व सुचारू रूप से संचालन हेतु यातायात प्रभारी श्रीमती सत्यकला रामटेके को नोडल अधिकारी बनाया गया है। हाईवे पेट्रोलिंग-1 के प्रभारी प्रधान आरक्षक बीरेंद्र बैस होंगे जो अपने स्टाफ के साथ राष्ट्रीय राजमार्ग 30, छाती से कोड़ापार दूरी 31 किलोमीटर तक लगातार हाईवे पेट्रोलिंग करते हुए सतत निगरानी रखेंगे, जिसका स्टॉपेज पॉइंट कार्यालय पुलिस अनुविभागीय अधिकारी कुरूद होगा। इसी प्रकार हाईवे पेट्रोलिंग-2 के प्रभारी प्रधान आरक्षक देवेंद्र गजेंद्र होंगे जो अपने स्टाफ के साथ राजकीय राजमार्ग 23, कोलियारी से गट्टासिल्ली तिराहा केरेगांव दूरी 25 किलोमीटर में सतत पेट्रोलिंग करते हुए निगरानी रखेंगे, जिसका स्टॉपेज पॉइंट पी.डब्ल्यू.डी. रेस्ट हाउस बनरौद होगा तथा हाईवे पेट्रोलिंग-3 के प्रभारी प्रधान आरक्षक उत्तम साहू होंगे जो अपने स्टाफ के साथ अन्य मार्ग मेन रोड अर्जुनी से सेमरा मोड़ तिराहा दूरी 24 किलोमीटर में लगातार भ्रमण करते हुए सतत निगरानी बनाए रखेंगे, इसका स्टॉपेज पॉइंट प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गुजरा है। हाईवे पेट्रोलिंग वाहन द्वारा पेट्रोलिंग करते हुए सतत निगाह रखने से निश्चित ही सड़क दुर्घटनाओं में कमी आएगी तथा सड़क दुर्घटना होने की स्थिति में तत्काल हाईवे पेट्रोलिंग मौके पर पहुंचकर पीड़ितों, घायलों को स्वयं व 108 एंबुलेंस वाहन की मदद से नजदीकी अस्पताल पहुंचाएगी, जिससे घायल, पीड़ित को तुरंत सहायता मिल सकेगी और उसकी जान बचाई जा सकेगी। साथ ही प्रत्येक हाईवे पेट्रोलिंग अपने रूट में समय-समय पर आम लोगों को जागरूक किए जाने हेतु अभियान की चलाएगी, जिससे लूटपाट की घटनाओं एवं अन्य अपराधों पर प्रभावी अंकुश लगाने में सहायक होंगे। प्रत्येक हाईवे पेट्रोलिंग वाहन के सुचारू रूप से संचालन हेतु तीन शिफ्ट में बल तैनात किया गया है। हाइवे पेट्रोलिंग वाहन अत्याधुनिक एवं तकनीकि संसाधनों से लैस हैं। इसमें जीपीएस सिस्टम, ब्रीथ एनालाईजर (एल्कोमीटर), स्मार्ट फोन, रिफ्लेक्टर जैकेट, रेनकोट, सेफ्टी कोण, वुड कटर, वेरिकेट एस, गार्डन टूल्स, एलईडी बेटन, एलईडी लाईट, पी.ए. सिस्टम एवं सायरन, डिजिटल कैमरा, फर्स्ट एड बॉक्स, अग्नि शमन यंत्र, फोल्डेबल स्ट्रैचर की सुविधा उपलब्ध है।