परातंत्र भारत का काला अध्याय है जलियांवाला बाग हत्याकांड-प्रीतेश गांधी * इंसानियत,मानवता पर कंलक है जनरल डायर का कृत्य-नरेन्द्र रोहरा

45

शहीदों को  अर्पित किया गया श्रद्धा-सुमन
धमतरी | 13 अप्रैल 1919 को अमृतसर के जलियांवाला बाग में जनरल डायर ने चारों तरफ से बाड़ को बंद करके अंधाधुंध गोली बरसाए जिसके परिणाम स्वरूप 1000 लोगों की निर्मम हत्या हो गई तब से लेकर आज तक उक्त दिवस को देश में इस कृत्य में शहीदों को श्रद्धांजलि स्वरूप श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं इस दिवस की पूर्व संध्या पर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश विशेष आमंत्रित सदस्य प्रीतेश गांधी तथा नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष नरेंद्र रोहरा द्वारा दीप जलाकर श्रद्धांजलि अर्पित किया गया।

श्री गांधी ने इस अवसर पर कहा कि परातंत्र भारत के इतिहास में क्रूरता की दासता कहता हुआ जलियांवाला बाग भारतीय इतिहास का एक काला अध्याय है जिसकी जितनी ज्यादा निंदा की जा सके उतनी कम है भारत माता को स्वतंत्र कराने के लिए अनेक बलिदानों में उत्तम कोटि का बलिदान के रूप में जलियांवाला बाग कांड को सदैव याद किया जाता रहेगा वही निगम में प्रतिपक्ष के नेता नरेंद्र रोहरा ने मानवता व इंसानियत की पराकाष्ठा को पार करते हुए जनरल डायर के कृत्य को आमानवीय बताते हुए मानवता पर काला धब्बा कहा है उन्होंने आम जनमानस से अपील करते हुए हमारे पुरखों के त्याग व बलिदान की गाथा को सुरक्षित और संवर्धित कर आगे बढ़ाने का आह्वान भी किया