जुलूस के आयोजन में प्रशासन का पूरा सहयोग रहेगा, बशर्ते कोरोना संबंधी दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन हों:  कलेक्टर  

401

धमतरी | आगामी 30 अक्टूबर को आयोजित होने वाले पर्व ईदे-मिलादुन्नबी पर्व के अवसर पर जुलूस निकलने को लेकर कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न हुई, जिसमें मुस्लिम समाज के प्रतिनिधियों ने जिला प्रशासन से अपेक्षित सहयोग की अपील की। इस पर कलेक्टर ने यह आश्वस्त किया कि जुलूस के आयोजन में जिला प्रशासन का पूरा सहयोग रहेगा, बशर्ते कोविड-19 से संबंधित दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाए।
जिला पंचायत के सभाकक्ष में सुबह 10.45 बजे आयोजित बैठक में कलेक्टर ने कहा कि सभी पक्षों की धार्मिक भावनाओं का सम्मान करते हुए प्रशासन द्वारा हरसंभव सहयोग किया जाएगा। जुलूस का आयोजन निर्धारित समय-सीमा में करें, किन्तु इसमें शामिल सभी लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से करना होगा। साथ ही थर्मल स्कैनर और सैनिटाइजर का भी उपयोग अनिवार्यतः करने के लिए कहा। कलेक्टर ने बैठक में उपस्थित मुस्लिम समाज के प्रतिनिधियों से कहा कि सर्दी, खांसी बुखार जैसे लक्षण वाले लोगों को जुलूस में शामिल नहीं करने की बात भी कही। उन्होंने जुलूस के दौरान इन सब बातों की सतत् अपील करने की भी हिदायत समाज के प्रतिनिधियों को दी, साथ ही भीड़ को नियंत्रित करने आवश्यक उपाय करने के लिए भी कहा। इसके अलावा अनुविभागीय अधिकारी धमतरी, आयुक्त तथा पुलिस के अधिकारियों को जुलूस के रूट वाली जगहों का मौका मुआयना कर आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करने एवं सफाई, पेयजल एवं निर्धारित मार्ग का सैनिटाइज करने के निर्देश दिए। इसके पहले, मुस्लिम समाज के पदाधिकारियों ने बताया कि जुलूस का आयोजन 30 अक्टूबर को सुबह 9 बजे से एक बजे के बीच प्रस्तावित है, जो कि रत्नाबांधा चौक के समीप स्थित ईदगाह से होते हुए नगर निगम स्कूल, शिव चैक, कोतवाली चैक, सदर बाजार होते हुए वापस ईदगाह में समाप्त होगा। कलेक्टर ने संबंधित विभागीय अधिकारियों के साथ तत्संबंध में जानकारी देकर आवश्यक समन्वय स्थापित कर की बात कही। इस अवसर पर जिला पंचायत की सी.ई.ओ. श्रीमती नम्रता गांधी, अपर कलेक्टर  दिलीप अग्रवाल, आयुक्त नगर निगम आशीष टिकरिहा, डी.एस.पी. अरूण जोशी, तहसीलदार धमतरी श्रीमती ज्योति मसियारे सहित मुस्लिम समाज के प्रतिनिधि के तौर पर हाजी बशीर अहमद, हाजी अय्यूब निरबान, वसीम कुरैशी,  इकबाल बुरहान तथा  एम.ए. फहीम उपस्थित थे।