जिला दण्डाधिकारी जय प्रकाश मौर्य ने हरदेव सिन्हा के मामले में दण्डाधिकारी जांच के दिए निर्देश:अनुविभागीय दण्डाधिकारी धमतरी मनीष मिश्रा जांच अधिकारी नियुक्त

455

धमतरी | धमतरी जिले के ग्राम तेलीनसत्ती निवासी 27 वर्षीय हरदेव सिन्हा ने सोमवार को राजधानी रायपुर के सिविल लाईन्स में खुद पर पेट्रोल डालकर आत्मदाह की कोशिश की थी। इसकी प्रारंभिक जांच अनुविभागीय दण्डाधिकारी धमतरी द्वारा की गई। जिसमें बताया गया कि हरदेव सिन्हा का महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत जाॅब कार्ड बना है और पिछले माह 11 दिन श्री हरदेव तथा उनके परिवार के लोग 26 दिन कार्य किए। प्रारंभिक जांच में यह भी बात सामने आई कि श्री सिन्हा मानसिक रूप से थोड़े अस्वस्थ है और परिजन दो-तीन साल से उन्हें इसका इलाज कराने बोल रहे हैं।
इसके मद्देनजर कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी  ने प्रारंभिक जांच प्रतिवेदन से सहमत हो,  हरदेव सिंह द्वारा आत्मदाह के प्रयास के संबंध में दण्डाधिकारी जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने इसके लिए अनुविभागीय दण्डाधिकारी धमतरी  मनीष मिश्रा को जांच अधिकारी नियुक्त करते हुए एक माह के भीतर जांच प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। जांच में उन्हें यह घटना क्यों और किन परिस्थितयों में हुई? घटना के पूर्व संबंधित किन-किन व्यक्तियों से मिला?क्या घटना के पीछे किसी की उत्प्रेरणा तो नहीं थी? वह क्यों और किसके सहयोग से रायपुर गया,जबकि यात्री बसों का परिचालन बंद है ? इत्यादि की जानकारी लेने के निर्देश दिए गए। इसके अलावा क्या अत्मादाह के प्रयास के पूर्व इसकी लिखित सूचना कार्यालय को दी गई थी ? यदि उसका मानसिक संतुलन ठीक नहीं था, तो ईलाज का प्रयास परिवार वालों ने क्यों नहीं किया? संबंधित का राशनकार्ड में नाम है कि नहीं? क्या उन्हें विगत दो माह में राशन प्रदाय किया गया है ? तथा अन्य कोई बिन्दु जो परिस्थितिजन्य हो और जांच में आवश्यक हो, उस पर भी अपनी टीप देने के निर्देश जिला दण्डाधिकारी ने दिए हैं।