जमीन को लेकर हुए विवाद में पुजारी को जिंदा जलाया, सीएम बोले- दोषियों पर होगी कार्रवाई

419

राजस्थान| राजस्थान के करौली में एक साधु को जिंदा जलाने का मामला सामने आया है. पुजारी को जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी उसके बाद अस्पताल ले जाया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. इस घटना के सामने आने बाद लोगों में काफी आक्रोश है, लोगों का कहना है कि राजस्थान में कानून व्यवस्था पूरी तरह ठप है. पुलिस के अनुसार दोनों पक्षों में मंदिर की जमीन को लेकर पहले से विवाद चल रहा था. यह पूरा घटनाक्रम करौली के सपोटरा थाना इलाके की ग्राम पंचायत बुकना का है. यहां मंदिर पर 50 वर्षीय बाबूलाल वैष्णव पूजा करता था और मंदिर माफी की जमीन पर भी उसी का कब्जा था. लेकिन इस जमीन को लेकर गांव के दबंग कैलाश मीणा की नजर थी. इसी जमीन पर कब्जा करने के लिए आरोपी कैलाश मीणा ने पुजारी पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी. इस घटना के बाद बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने भी ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा ‘प्रदेश में हर तरह के अपराधों की घटनाएं बढ़ती जा रही है. सपोटरा में मंदिर के पुजारी को जिंदा जलाने की घटना यह दर्शाती है कि अपराधियों में कानून का भय समाप्त हो चुका है. प्रदेश की जनता भयभीत है, डरी हुई है, सहमी हुई है, आखिर गहलोत जी आप कब तक अपराधियों के मसीहा बनकर रहोगे?’  इस पूरे मामले पर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा ‘करौली जिले के सपोटरा में मंदिर के पुजारी को जिंदा जलाकर मौत के घाट उतार देने के मामले की जितनी निंदा की जाए, जितना दुःख जताया जाए, कम है.’ कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री रमेश मीणा ने ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने लिखा ‘सपोटरा में मंदिर के पुजारी बाबूलाल जी को जिंदा जलाने की घटना निंदनीय है. ऐसी घटनाएं सभ्य समाज के लिए सही नहीं. जिले के पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि दोषियों के खिलाफ सख्त करवाई हो. मुख्य आरोपी पकड़ा जा चुका है, शेष आरोपियों को भी जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश दिए हैं.’  इस पूरे घटनाक्रम पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया है और घटना पर दुख जताते हुए दोषियों को कड़ी सजा देने का एलान किया है