गोधन न्याय योजना का जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन का जायजा लिया कृषि उत्पादन आयुक्त ने : हंचलपुर के आदर्श गौठान को सराहा डाॅ.एम.गीता ने

482

धमतरी |  कुरूद के हंचलपुर में पांच एकड़ क्षेत्र में बने आदर्श गौठान को देख आज कृषि उत्पादन आयुक्त डॉक्टर एम. गीता ने इसे काफी सराहा। इस मौके पर उन्होंने गौठान में वर्मी खाद तैयार करने में लगी महामाया महिला कृषक अभिरुचि की नौ सदस्यीय समूह से चर्चा कर जानकारी ली। साथ ही इन महिलाओं को और रुचि से काम करने पर बल दिया। ज्ञात हो कि शासन की महत्ती ’गोधन न्याय योजना’ के तहत यहां 20 जुलाई से योजना शुरू हो गई है। ग्राम पंचायत हंचलपुर में कुल 941 गाय और भैंस वंशी पशु हैं। इस गौठान में अब तक 934 किलो गोबर खरीदी की गई है। मौके पर बताया गया कि यहां 13 सदस्यीय गौठान समिति किशन-कन्हैया के नाम से संचालित हो रही है। डाॅ.गीता ने मौके पर गौठान का निरीक्षण किया और निर्मित वर्मी बेड, वर्मी टैंक, कोटना सहित अन्य सुविधाओं को देखा। बताया गया कि फिलहाल दो दिन गुरुवार और रविवार को सुबह 8-11 बजे का समय गोबर खरीदी के लिए तय किया गया है। दरअसल प्रदेश सरकार  की महत्ती गोधन न्याय योजना की जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन की स्थिति देखने ए.पी.सी. डाॅ. एम. गीता ने आज जिले का दौरा किया।


इससे पहले उन्होंने गातापार में पांच एकड़ क्षेत्र में बने गौठान का मुआयना कर गौठान समिति और वर्मी खाद बनाने में जुटी महिला समूह से चर्चा की। बताया गया कि यहां अब तक गौठान समिति द्वारा 6547  किलो गोबर खरीदी की गई है।  मौके पर कृषि उत्पादन आयुक्त ने सही तरीके से तौल कर गोबर खरीदने और इसके लिए बने पंजी का अवलोकन कर उसे नियमित रूप से सही तरीके से संधारित करने पर जोर दिया। इसमें गोबर बेचने वाले हितग्राहियों का खाता, मोबाइल, आधार नंबर इत्यादि सही तरीके से लिखा जाना है, ताकि सहकारी समिति से 15 दिनों के भीतर उन्हें दो रुपए प्रति किलो की दर से भुगतान करने में सुविधा हो। डॉ. गीता ने निरीक्षण के दौरान दोनों गौठान में कृत्रिम गर्भाधान से उत्पादित वत्सों का

अवलोकन कर प्रसन्नता व्यक्त की। इस मौके पर उन्होंने निरीक्षण किए दोनों गौठान की प्रभारी सुश्री मनीषा साहू व विभागीय अमले द्वारा किए गए कार्यों की सराहना भी की। साथ ही जिले के सभी गौठान में पशु चिकित्सा सेवा सम्बन्धी आवश्यक जानकारी सूचना पटल पर प्रदर्शित करने के निर्देश दिए। उन्होंने इस मौके पर कलेक्टर  जय प्रकाश मौर्य को इन दोनों गौठान में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना से दस-दस वर्मी टांका बनवाने के निर्देश दिए।


डाॅ. एम. गीता ने इसके अलावा मरौद स्थित छ.ग. राज्य बीज और कृषि विकास निगम पहुंच, वहां किए जा रहे बीज प्रक्रिया की जानकारी ली। मौके पर बताया गया कि यहां 29 हेक्टयर में प्रजनक बीज से स्वर्णा, महामाया और एम.टी.यु. 1010 धान को लगाया गया है। इस प्रक्रिया केन्द्र में धान, अरहर, उड़द और मूंग बीज की प्रक्रिया की जाती है। इस अवसर पर राजधानी रायपुर से आए संचालक कृषि श्री नीलेश क्षीरसागर, संचालक उद्यानिकी श्री माथेश्वरन व्ही., सी.ई.ओ वॉटर शेड डॉक्टर जगदीश सोनकर, संयुक्त संचालक पशु चिकित्सा सेवा श्री डी. के. नेताम, संयुक्त संचालक कृषि श्री गयाराम सहित मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत धमतरी श्रीमती नम्रता गांधी सहित अन्य अधिकारी और ग्रामीण मौजूद रहे।