गांव गांव में क्वारंटाइन सेंटर होने से संक्रमण बढ़ने का खतरा – बृजमोहन अग्रवाल

423

धमतरी | कांग्रेस सरकार पर कटाक्ष करते हुए पूर्व कैबिनेट मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि गांव गांव में क्वारंटाइन सेंटर खोलने की जरूरत ही नहीं थी.इन सेंटरों में रह रहे लोगों की सांप काटने, बिच्छू काटने से मौत हो रही है या फिर अवसाद में वे फांसी लगाकर अपनी जान दे रहे है. इन सेंटरों में सरकार ने खाने-पीने, दवा डॉक्टर की सुविधा ही उपलब्ध नहीं कराई है.चुकी घर के नजदीक सेण्टर होने से घर जाने की इच्छा होगी और वे घर चले जाते या घर के लोग वहा आ जाते है इससे भी संक्रमण बढने का खतरा है  श्री अग्रवाल कांकेर से राजधानी लौटते वक्त कुछ देर के लिए धमतरी विश्रामगृह में रूके थे जहां उन्होंने पत्रकारों से चर्चा की. इसके पुर्व भाजपा नेताओं ने उनका स्वागत किया. श्री अग्रवाल ने अपनी बात जारी रखें हुए कहा कि केन्द्र सरकार जो भी नीति बनाती है वह पूरे देश के लिए होती है केवल एक राज्य की परिस्थितियों या मांग को देखते हुए केन्द्र की नीति तैयार नहीं होती.केंद्र की भाजपा सरकार तो किसानों गरीबों तथा मजदूरों के हितों का ख्याल रखते हुए न केवल योजना बनाती है बल्कि उसका सफल क्रियान्वयन भी करती है. एक पूरक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि केवल धान की फसल लेने से ही किसानों की आय दोगुनी नहीं होगी बल्कि धान के साथ चना, सोयाबीन, सब्जी जैसे फसल पर भी किसानों को

ध्यान देना होगा. एक अन्य सवाल पर उन्होंने कहा की डीएमएफ आपदा प्रबंधन को खर्च करने केंद्र ने राज्य सरकार को अनुमति दे दी है चूँकि  इस फंड में 60 प्रतिशत केंद्र तथा40 फीसदी राज्य सरकार की होती है. अपने हिस्से की वजह से राज्य सरकार इस फंड को खर्च नहीं कर रही है. किसान हितैषी बताने वाली राज्य की  सरकार की तरफ से जरुरत  के समय किसानों को सहयोग नहीं मिल पा रहा है बल्कि उनके साथ अन्याय किया जा रहा है. 25 सौ समर्थन मूल्य किसानों ने नहीं मांगा था बल्कि कांग्रेस ने घोषणा पत्र में कहा था अब अंतर की राशि किश्तों में देकर मजाक किया जा रहा है.किसानों को देने के लिए इस सरकार के पास 5 हजार करोड़ रूपए भी नहीं है जिससे यह स्पष्ट होता है कि सरकार पूरी तरह से कंगाल हो गई है. इस अवसर पर विधायक रंजना साहू भाजपा जिला अध्यक्ष शशि पवार वरिष्ठ नेता शिव शर्मा, पूर्व जिलाध्यक्ष रामू रोहरा, कविंद्र जैन, महेंद्र पंडित,डीपेंद्र साहू, प्रतीक चौबे आदि उपस्थित थे