कोरोना वैक्सीन को लेकर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से पूछे ये 4 सवाल

19

नई दिल्ली | देश में लगातार कोरोना वायरस का संक्रमण और खतरनाक होता जा रहा है. राजस्थान, गुजरात और दिल्ली में कोरोना की स्थिति बिगड़ने के बाद राज्य सरकार की तरफ से इसकी रोकथाम को लेकर नए कदम उठाने को मजबूर होना पड़ा है. राजस्थान और गुजरात, हिमाचल प्रदेश समेत फिर से कुछ राज्यों में नाइट कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया गया है. ऐसे में इस वक्त लोग बेसब्री के साथ कोरोना वैक्सीन के आने का इंतजार कर रहे हैं. ऐसा माना जा रहा है कि कोरोना वैक्सीन देश में मार्च तक या उससे पहले आ सकती है. इस बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी की तरफ से कोरोना वैक्सीन को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से ट्वीट कर चार सवाल किए गए हैं. राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी को जरूर राष्ट्र को यह बताना चाहिए कि सभी कोरोना वैक्सीन में से भारत सरकार किसे चुनेगी और क्यों? किसे पहले कोरोना वैक्सीन की खुराक दी जाएगी और इसके वितरण की क्या रणनीति रहेगी? क्या वैक्सीन को मुफ्त सुनिश्चित किए जाने के लिए पीएम केयर्स फंड का इस्तेमाल किया जाएगा? कब तक भारतीयों को वैक्सीन दी जाएगी?

भारत में लगातार 16वें दिन कोरोना के 50 हजार से कम नए मामले दर्ज किए गए हैं, जिसके बाद संक्रमण के कुल मामले 91 लाख के पार पहुंच गए. देश में सोमवार को पिछले 24 घंटे में 44,059 नए संक्रमित मरीज आए हैं. वहीं 511 लोग कोरोना से जिंदगी की जंग हार गए. अच्छी बात ये है कि बीते दिन 41,024 मरीज कोरोना से ठीक भी हुए हैं. कोरोना मामले बढ़ने की ये संख्या दुनिया में अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा है. वहीं मौत की संख्या दुनिया में चौथे नंबर पर है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, भारत में कोरोना के कुल मामले बढ़कर 91 लाख 40 हजार हो गए हैं. इनमें से अब तक एक लाख 33 हजार 738 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है. कुल एक्टिव केस बढ़कर चार लाख 43 हजार पर आ गए. पिछले 24 घंटे में एक्टिव केस की संख्या 2524 बढ़ गई. अब तक कुल 85 लाख 62 हजार लोग कोरोना को मात देकर ठीक हो चुके हैं. पिछले 24 घंटे में 41,024  मरीज कोरोना से ठीक हुए. 26 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में एक्टिव केस 20,000 से कम हैं और 9 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में एक्टिव केस 20,000 से ज़्यादा हैं. भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार, देश में 22 नवंबर तक कोरोना वायरस के लिए कुल 13 करोड़ 25 लाख सैंपल टेस्ट किए गए, जिनमें से 8.49 लाख सैंपल कल टेस्ट किए गए. पॉजिटिविटी रेट सात फीसदी है.

tushar