किसानों को घोषणा पत्र भरवाने के पीछे राज्य सरकार की क्या है मंशा 

525

 राजेंद्र साहू

मगरलोड| प्रदेश में प्रत्येक वर्ष किसानो की खरीब फसल की खरीदी नवम्बर, दिसम्बर महीने में राज्य सरकार द्वारा की जाती हैं | पिछले वर्ष धान खरीदी 1 दिसम्बर  से शुरू की  गई  | वर्तमान में छतीसगढ़ सरकार द्वारा सोसायटी के माध्यम से किसानों को घोषणा पत्र भरवाया जा रहा है| घोषणा पत्र भरवाने का कारण स्पष्ट नहीं है | इनके पहले पिछली सरकारों ने कई वर्षों से धान खरीदी की पर किसी प्रकार के घोषणा पत्र नहीं भरवाए |

युवा नेता चेतन साहू ने बताया कि पिछली सरकार द्वारा धान की खरीदी की गई जो निश्चित समय पर 1 नवंबर से शुरू हो जाती थी लेकिन उस समय किसी प्रकार के घोषणा पत्र या अन्य दस्तावेज भरकर किसानों को देने की आवश्यकता नहीं पड़ती ती थी | उन्होंने आगे कहा कि ऐसा क्या कारण है जब राज्य सरकार को किसानों से घोषणा पत्र भरवाना पड़ रहा है। इस पर राज्य सरकार अपनी मंशा क्लियर करे|उन्होंने आगे कहा कि समर्थन मूल्य की राशि किसानो को एकमुस्त प्रदान करे| राज्य सरकार किसानों की धान की खरीदी 1 नवम्बर से शुरू करें ताकि किसानो को धान बेचने में आसानी हो |