कलेक्टर ने बच्चों की सतत काउंसलिंग, शिक्षा और जागरूकता पर दिया बल 

304

धमतरी |  जिले के संकटग्रस्त बच्चों की सही तरीके से काउंसलिंग करने पर कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने जोर दिया है। उन्होंने बच्चों और उनके अभिभावकों को जागरूक करने, बच्चों की शिक्षा और उनके कौशल विकास पर बल दिया। वे  जिला बाल संरक्षण समिति की बैठक के दौरान उक्त निर्देश दिए। कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आहूत बैठक में कलेक्टर ने ऐसे संकटग्रस्त बच्चे, जिनके अभिभावक नहीं हैं, रिक्तित्ता के आधार पर आश्रम-छात्रावासों में भर्ती कर उन्हें शिक्षित करने कहा।


कलेक्टर ने कड़े शब्दों में निर्देशित किया है कि किराना और पान दुकानों में बच्चों को नशा सामग्री अगर बेची जाती है, तो उन पर सख्त कार्रवाई की जाए। इसके लिए संबंधित क्षेत्र के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व और पुलिस विभाग की टीम को जिम्मा सौंपा गया है। कलेक्टर ने नगरपालिक निगम धमतरी के हर वार्ड में बाल संरक्षण समिति का पुनर्गठन करने के निर्देश आयुक्त, नगर निगम को दिए। उन्होंने बाल गृह में रहनेवाले तथा संकटग्रस्त बच्चों की यथासंभव कौशल उन्नयन करने पर भी जोर दिया। बैठक में बाल कल्याण समिति और किशोर न्याय बोर्ड के लंबित प्रकरणों पर भी चर्चा की गई।