एडिलेड टेस्ट में टीम इंडिया की शर्मनाक हार, 8 विकेट से जीता ऑस्ट्रेलिया

216

एडिलेड | एडिलेड टेस्ट में भारतीय टीम को 8 विकेट से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा है. इस डे नाइट टेस्ट में जीत के बाद ऑस्ट्रेलिया ने चार मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 से बढ़त बना ली है. इस हार के बाद टीम इंडिया की मुश्किलें आने वाले मैचों में और भी बढ़ जाएगी, क्योंकि कप्तान विराट कोहली भारत वापस लौटेंगे. कोहली पैटरनिटी लीव पर रहेंगे.  एडिलेड टेस्ट का तीसरा दिन टीम इंडिया के लिए बुरा सपना साबित हुआ. दूसरे दिन के अंत तक मजबूत दिख रही टीम इंडिया डे-नाइट टेस्ट के तीसरे दिन भारतीय टीम 90 मिनट में सिमट गई. भारतीय टीम ने जब नौ विकेट पर 36 रन बनाए थे तब मोहम्मद शमी को चोटिल होने के कारण क्रीज छोड़नी पड़ी. ऑस्ट्रेलिया के सामने मैच जीतने के लिए 90 रन का टारगेट था.

ऑस्ट्रेलिया ने 2 विकेट पर 93 रन बनाकर मैच जीत लिया. स्टीव स्मिथ (1) और जो बर्न्स (51) नाबाद रहे. तीसरे दिन भारतीय टीम ने एक विकेट पर 9 रन से आगे खेलना शुरू किया. इसके बाद टीम ने 27 रन बनाने में 8 विकेट गंवा दिए. ऑस्ट्रेलिया के लिए जोश हेजलवुड ने 5 और पैट कमिंस ने 4 विकेट लिए. टीम इंडिया का कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकाड़ा पार नहीं कर पाया. अग्रवाल ने सबसे ज्यादा 9 रन बनाए, जबकि विहारी 8 रन बनाने में कामयाब रहे. पुजारा, रहाणे और अश्विन खाता भी नहीं खोल पाए. कप्तान विराट कोहली भी फ्लॉप रहे और 4 रन बनाकर आउट हो गए.  मजबूत बल्लेबाजी क्रम का तमगा लेकर ऑस्ट्रेलिया सरजमीं पर पहुंची भारतीय टेस्ट टीम ने वो रिकॉर्ड अपने नाम किया है जो दुनिया की कोई भी टीम नहीं करना चाहेगी. भारत ने टेस्ट क्रिकेट में अपना न्यूनतम स्कोर 36 रन बनाया. इससे पहले भारत का न्यूनतम स्कोर 42 रन था जो उसने इंग्लैंड के खिलाफ 1974 में लॉर्ड्स में बनाया था.  यह टेस्ट क्रिकेट में पांचवां न्यूनतम स्कोर है. न्यूनतम स्कोर का रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के नाम पर है, जिसने 1955 में इंग्लैंड के खिलाफ आकलैंड में 26 रन बनाये थे. भारत का टेस्ट में अब तीसरा सबसे कम स्कोर भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दर्ज है, जो उसने 28 नवंबर 1947 को ब्रिस्बेन में बनाया था. भारत ने उस मैच की पहली पारी में 58 रन बनाए थे. भारत ने 17 जुलाई 1952 को इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर में भी 58 रन ही बना पाए थे. इसके बाद भारत ने 1996 में 26 दिसंबर को डरबन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 66 रन बनाए थे. यह अब भारत का टेस्ट में सबसे कम स्कोर की सूची में चौथे नंबर है. भारत का टेस्ट में पांचवां सबसे कम स्कोर 67 है और यह भी उसने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाया था. भारत ने छह फरवरी 1948 में मेलबर्न में यह स्कोर बनाया था. इससे पहले भारत ने ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी में 191 रन पर आउट करके दूसरे दिन शुक्रवार को 53 रन की बढ़त ले ली थी. ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए मार्नस लाबुशेन (47) और टिम पेन (नाबाद 73) को छोड़कर कोई बल्लेबाज टिक नहीं सका. टीम इंडिया के लिए रविचंद्रन अश्विन ने पहली पारी में 4 कंगारू बल्लेबाजों को पवेलियन लौटा दिया. इसके अलावा उमेश यादव ने 3 और जसप्रीत बुमराह ने 2 विकेट झटके. इससे पहले भारत ने पहली पारी में 244 रन बनाए थे. टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया पहली पारी में 244 रनों पर ढेर हो गई. भारत के लिए कप्तान विराट कोहली ने 74 और चेतेश्वर पुजारा ने 43 रन बनाए. ऑस्ट्रेलिया की तरफ से मिशेल स्टार्क ने सबसे ज्यादा 4 विकेट झटके. भारत को अपने पुछल्ले बल्लेबाजों से उम्मीद थी कि वे 300 रन के पार पहुचाएंगे,  लेकिन पहली पारी में भारत ने अपने बचे हुए 4 विकेट सिर्फ 11 रनों पर गंवा दिए थे.