आटो चालक फल बेचकर खींच रहे परिवार की गाड़ी

611

 कोरोना की मार

धमतरी । कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन ने ऑटो चालक की कमर तोड दी है। लॉक डाउन के चलते ऑटो का परिवहन   मार्च से बंद है। हालांकि सरकार ने ऑटो चलाने की छूट दी है लेकिन सड़क पर को कोई सवारी नहीं मिल रहे हैं | कभी कभार एक दो सवारी  मिल जाती हैं । इसे डीजल का खर्च भी नहीं निकल पा रहा है ।कई आटो चालक ऐसे भी हैं जिनकी परिवार की गाड़ी स्कूलों में बच्चों को लाने ले जाने से चलती थी | चूंकि कोरोना के कारण स्कूल अभी बंद है। ऐसे मैं उन्हें आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है । कोरोना काल को देखते हुए कई ऑटो चालको ने  अपने परिवार की गाड़ी खींचने के लिए अपना व्यवसाय ही बदल दिया है ।

गोकुलपुर के ऑटो चालक प्रकाश साहू ने बताया कि वह पेशे  से वाहन चालक है | वह स्कूल से बच्चों को लाने ले जाने का काम करते थे| अभी  स्कूल बंद है | सड़क पर यात्री नहीं  मिल  रहे हैं।उन्होंने आगे बताया कि स्कूल बंद होने और सड़क पर यात्री नही मिलने पर अब वे रुद्री रोड में फल की दुकान लगाकर अपने परिवार की गाड़ी खींचने की कोशिश कर रहे हैं । उन्होंने आगे बताया कि कोरोना ने  पूरी अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है ।सबसे ज्यादा प्रभाव रोज कमाने खाने वालों पर पड़ा है ।