अंडर वॉटर कैमरे की मदद से 42 घंटों बाद मिली एसडीआरएफ की टीम को सफलता

488

धमतरी. विगत दिनों हुए गंगरेल बांध पर एक ही परिवार के 3 सदस्यों की नांव पलटने की दुर्घना से एक ही परिवार के 3 लोगों की मौत हो गई थी। जिसमें दो की लाश बाहर निकाला गया था। तथा एक बच्ची लापता हो गई थी।

जिसे एसडीआरएफ की टीम द्वारा 42 घंटे की मशक्कत के बाद पानी के अंदर से मासूम बच्ची की लाश को बाहर निकाला गया। गंगरेल बांध में नाव हादसे के बाद लापता बच्ची की लाश गोताखोरों ने बरामद कर ली है। 42 घंटे के रेस्क्यू के बाद 5 साल की लक्ष्मी मंडावी का शव मिला। बच्ची का शव पत्थर के बीच में फंसा मिला। मंगलवार की शाम हुए नाव हादसे के बाद लापता थी। हादसे में मृतकों की संख्या बढ़ कर 3 हुई जिले के गंगरेल बांध में नाव पलट जाने से उसमे सवार दो लोगो की मौत और एक बच्ची लापता हो गई थी वही लापता बच्ची को 42 घंटे बाद आज एसडीआरएफ की टीम ने खोज लिया है बताया जा रहा है कि एसडीआरएफ ने अंडर वॉटर कैमरे की मदद से मासूम बच्ची की शव को तलाश रही थी इसी दौरान पानी के अंदर दो पत्थरो के बीच बच्ची का शव फंसा हुआ था जिसे टीम ने बाहर निकाला वही पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है गौरतलब है कि गंगरेल डुबान क्षेत्र के ग्राम नया कोलियारी निवासी हरिराम के घर नारायणपुर से एक परिवार घूमने आए थे जिस वक्त महिला पुरूष और बच्चे सहित 12 लोग सवार थे उसी हादसे में 16 वर्षीय कु सुमित्रा औऱ कु निवेदिका 3 वर्ष की पानी मे डूबने से मौत हो गई साथ ही 5 वर्षीय लक्ष्मी मंडावी लापता हो गई थी जिसे एसडीआरएफ की टीम द्वारा रेस्क्यू ऑपरेशन चला कर आज बाहर निकाल लिया गया है बता दे कि कड़ी मशक्कत और अंडर वाटर कैमरा की मदद से एसडीआरएफ के जवानो ने शव का पता लगाया