मुख्य सचिव की सोच ने संवारी है गरीबों की जिंदगी, वे सेवा से कभी रिटायर नहीं हो सकते 

127

रायपुर| नगरीय प्रशासन एवं विकास और श्रम विभाग मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया जब श्रम कल्याण मण्डल द्वारा तेलीबांधा रायपुर में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे तो यहां कचरा बीनने वाली महिलाओं की जिंदगी में आए बदलाव को देखकर भावुक हो गए। इस दौरान डॉ. डहरिया ने कहा कि श्रम कल्याण की योजनाओं से जुड़कर कचरा बीनने वाली महिलाओं ने सिलाई का प्रशिक्षण ही नहीं प्राप्त किया है, वे नई उम्मीदों के साथ आत्मनिर्भर बनने की दिशा में भी आगे बढ़ने लगी है। उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल ने गरीबों की जिंदगी बदल दी है। उनकी सोच और सेवा के प्रति समर्पण का ही परिणाम है कि कचरा बीनने वाली महिलाएं रोजगार से जुडेंगी और अपना बेहतर भविष्य बनायेगी।

इन गरीब महिलाओं में उनकी हुनर की पहचान कर उनकों कचरे के ढेर से स्वालंबन से जोड़कर मुख्य सचिव ने साबित किया कि गरीबों के प्रति उनकी सोच कैसी है? आज वे भले ही नौकरी से रिटायर हो रहे हैं, लेकिन सेवा कार्य से वे कभी भी रिटायर नहीं हो सकते।  श्रम विभाग अंतर्गत श्रम कल्याण मंडल द्वारा संचालित सिलाई प्रशिक्षण केंद्र में 49 कचरा बीनने वाली महिलाओं को सिलाई प्रशिक्षण प्राप्त करने पर पांच-पांच हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई। इस अवसर पर मंत्री डॉ. डहरिया ने कहा कि श्रम विभाग की योजना से गरीबों का कल्याण निरन्तर किया जा रहा है। शासन स्तर पर भी गरीबों के कल्याण के लिए योजनाएं बनाई जा रही है। सिलाई प्रशिक्षण के माध्यम से कचरा बीनने वाली महिलाओं के हाथों में अब हुनर है। वे स्व-रोजगार अपना कर अपने पैरों में खड़ी हो सकती है।

महिलाएं अब सिलाई का काम करेगी तो उन्हें भी अपने सम्मान का अहसास होगा और समाज के मुख्यधारा में जुड़कर आगे बढ़ने की दिशा में कदम बढायेंगी। श्रम कल्याण मण्डल के अध्यक्ष शफी अहमद ने सभी महिलाओं को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि आप नये कार्य से जुड़कर आने वाले भविष्य को बेहतर बनाये। मुख्य सचिव आर.पी. मंडल ने कहा कि मेरी हमेशा से कोशिश रही हैं कि शासन की योजनाओं का लाभ निचले से निचले तबके के जरूरतमंद लोगों को मिले। यदि शासन की योजनाओं से किसी कि भी जिंदगी में बदलाव आता है और एक नई और बेहतर जिदंगी की शुरूआत होती है तो यहीं हमारी सेवा और जिंदगी का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। आने वाले दिनों में महिलाएं रोजगार से जुड़कर आत्मनिर्भर बनेगी तो उन्हें भी बहुत खुशी होगी। इस दौरान श्रम विभाग के सचिव अन्बलगन पी., श्रमायुक्त एलेक्स पॉल मेनन सहित अन्य अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।