पाकिस्तान की ‘टेटर पॉलिसी’ को FATF के सामने बेनकाब करेगा भारत

517

 

नई दिल्ली |पुलवामा फिदायीन हमले में पाकिस्तानी साजिश से जुड़े सबूतों के साथ भारत फाइनेंशियल ऐक्शन टास्क फोर्स (FATF) में पाकिस्तान को बेनकाब करेगा। हमले के आरोपी मोहम्मद उमर फारूक के पेशावर और खैबर एजेंसी के दो बैंक अकाउंट्स में पाकिस्तान बेस्ड जैश-ए-मोहम्मद के मास्टरमाइंड ने 10.43 लाख रुपये जमा किए थे। 14 फरवरी को हुए पुलवामा हमले से जुड़ा ये सुराग मिलने के बाद FATF में पाकिस्तान को ‘ब्लैक लिस्टेड’ कराने के मामले में भारत को मदद मिल सकती है।

सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान स्थित बैंकों में पुलवामा हमले के लिए की गई फंडिंग का मुद्दा भारत उठा सकता है। पुलवामा हमले की साजिश रचने और गुनाहगारों को पनाह देने के मामले में भारत पाकिस्तान को बेनकाब करेगा। एक अधिकारी ने कहा, ‘फैक्ट यह है कि एक जैश आतंकवादी पाकिस्तान में अपने बैंक अकाउंट्स में फंड ले रहा था, जिसका इस्तेमाल उसने भारत में पुलवामा हमले के लिए इस्तेमाल की गई कार और विस्फोटक खरीदने के लिए किया। पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे। इससे पता लगता है कि पाकिस्तान बैंकिंग सिस्टम को लेकर अपने वादों को पूरा करने में विफल रहा है।’
आपको बता दें कि सितंबर में एफएटीएफ की मीटिंग होनी है। पहले इसे जून में होना था लेकिन कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते इसे टाल दिया गया था। इसके बाद अक्टूबर में एफएटीएफ की सालाना बैठक भी होनी है। पाकिस्तान जून 2018 से एफएटीएफ की ग्रे सूची में है। एफएटीएफ की मीटिंग से पहले पाकिस्तान ने 88 आतंकियों पर प्रतिबंध लगाए है। इसका मकसद ब्लैक लिस्ट होने से बचना है। हालांकि पुलवामा हमले को लेकर भारत के सबूत पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट में भेज सकते हैं।