पर्यटन स्थलों को नशा प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित करने की मांग, संतों ने की कलेक्टर से मुलाक़ात

211

धमतरी | पर्यटन स्थलों को नशा प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित करने की मांग को लेकर संत रविकर साहेब के  नेतृत्व में संत कबीर सेवा संस्थान देवपुर के प्रतिनिधि ने कलेक्टर से मुलाकात की |  रविकर साहेब ने कहा कि मुख्य रूप से देवपुर डोंगेश्वर धाम के साथ-साथ नरहरा, गंगरेल, जबर्रा एवं धमतरी जिले के संपूर्ण पर्यटन स्थल को नशा प्रतिबंधित एवं पॉलीथिन प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर बोर्ड लगाया जाए l स्थाई रूप से समाधान के लिए पंचायत एवं स्थानीय समिति को लिखित रूप में निर्देश किया जाए | उन्होंने आगे कहा कि धार्मिक, आध्यात्मिक एवं पर्यटन स्थल शांति आनंद और प्रेरणा की जगह है जहां पर लोग सुकून के लिए पहुंचते हैं वहां पर कुछ अराजक तत्व पहुंचकर शराब, गुटखा, बीड़ी, तंबाकू, गुड़ाखू एवं सिगरेट धूम्रपान सेवन करते हैं जिससे सात्विक लोगों को परेशानी होती है एवं बच्चों को गलत प्रेरणा  मिलती  है l पर्यटन स्थलों में पॉलिथीन, पानी पाउच आदि के प्रयोग से गंदगी फैलती है जिससे पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है | पर्यावरण संरक्षण एवं संस्कार, स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कबीर संस्थान की ओर से संपूर्ण पर्यटन क्षेत्रों को नशा प्रतिबंधित एवं पॉलीथिन प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित करने  की मांग की गई  है | कलेक्टर ने उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया है | संस्थान की ओर से देवपुर पर्यटन स्थल के विकास हेतु भी विभिन्न मांग रखी गई  जिसमें वाचनालय, ग्रंथालय ओपन जिम, बच्चों के लिए खेलकूद व्यवस्था, यात्री प्रतीक्षालय प्याऊ स्वागत द्वार, हाईमास्ट लाइट, सभाभवन, मेला स्थल सौंदर्यीकरण, गार्डन बागवानी, पुलिया निर्माण, नाली निर्माण, उप स्वास्थ्य केंद्र संचालन, नया हायर सेकेंडरी स्कूल आरंभ करने, व्यवसायिक परिसर, मिनी स्टेडियम मुक्तिधाम, प्रतिक्षालय  शामिल है | उक्त अवसर पर  संत  शोधकर साहेब, अवनेंद्र साहू उपाध्यक्ष जनपद पंचायत धमतरी एवं संस्थान के सदस्यगण उपस्थित रहे l