नौ दिन बाद खुला बाजार, उमड़ी भीड़ , लोगों को बरतनी होगी सतर्कता   

248

धमतरी | नौ दिन के बाद गुरुवार को जिले के सभी नगरीय निकायों की दुकान शर्तों के साथ खुल गई | सुबह से ही लोगों की भीड़ दुकानों में उमड़ पड़ी | दुकान खुलने से लोगों ने राहत की साँस ली |अधिकांश घरों में दैनिक उपयोग की चीज लगभग खत्म हो गई थी| सब्जी के लिए लोग तरसते रहे| शहर के लोगों को गावं मे जाकर उंचे दाम में भी सब्जी खरीदनी पड़ी | वीरान  दिखने वाले सब्जी बाजार में काफी चहल-पहल  रही | लोगों को दो -दो थैले में सब्जी ले जाते देखा गया| अधिकांश लोगों के चेहरे पर मास्क नजर आए| कई दुकानों में फिजिकल डिस्टेंस का पूरी तरह पालन किया गया |

उल्लेखनीय है कि कोरोना के संक्रमण को देखते हुए कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य ने जिले के नगरीय निकायों के सभी वार्डों में 22 से 30 सितंबर तक कन्टेनमेंट जोन घोषित किया था। 30 सितंबर बुधवार को जिले के विभिन्न व्यापारी संघ के प्रतिनिधियों के साथ बैठक लेकर कलेक्टर ने सभी को हर तरह से सतर्क, सचेत रहकर सामान्य जीवन जीने का प्रयास करने पर जोर दिया। उन्होंने व्यापारी संघ और लोगों के कन्टेनमेंट अवधि में सहयोग को सराहा। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव और सुरक्षा के लिए सभी व्यापारी संघ प्रस्ताव पारित कर प्रतिष्ठान खोले रखने का समय तय करें।  उन्होंने कॉविड 19 से बचाव के लिए व्यापारी संघों को स्वनियंत्रण की नीति अपनाने पर जोर दिया और कहा कि नियम तोड़ने वाले प्रतिष्ठानों पर स्वयं संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई करें।  कलेक्टर ने कहा कि हर 10 से 15 दिन में विभिन्न व्यापारी संघ बैठक ले-लेकर सभी व्यापारियों को समझाइश दें, कि वे ट्रिपल लेयर मास्क का उपयोग जरूर करें। साथ ही प्रतिष्ठानों में एक प्रतिशत सोडियम हाइपो क्लोराइट के घोल से पोछा लगाएं। उन्होंने बताया कि नोट में 72 घंटे कोरोना का प्रभाव रहता है, अतः सैनिटाइजर, ग्लव्स, मास्क लगाकर उसे हाथ लगाने का प्रयास किया जाए। कलेक्टर ने कहा कि हाथ को सैनिटाइज करके ही मास्क छुएं, अगर नियमित रूप से मास्क का उपयोग किया जाए, तो 90 प्रतिशत संक्रमण का खतरा टल जाता है। उन्होंने सभी व्यापारी संघ को बारी-बारी से जागरूकता अभियान चलाने पर बैठक में जोर दिया। मास्क नहीं पहनने, सामाजिक दूरी का पालन नहीं करने और सार्वजनिक स्थलों पर थूकने पर सौ-सौ रूपए तथा होम आइसोलेशन का उल्लंघन करने पर एक हजार रूपए का अर्थदण्ड  लिया जायेगा |

नौ दिन के बाद बाद आज व्यापारिक प्रतिष्ठाने खुली|किराना दुकान, कपडा दुकान, बर्तन दुकान,  इलेक्ट्रोनिक   दुकान,  सोने-चांदी  की दुकान, सब्जी  बाजार में अच्छी ग्राहकी  देखी गई | सभी  ज्यादा भीड़  सब्जी बाजार में रही | सब्जी खरीदने पहुंचे हरीश, गोपाल ने बताया कि घर के किचन में सब्जी खत्म हो गई थी | सूखी सब्जी से ही काम चलाना पड़ रहा था | 9 दिन बाद बाजार खुला है | वह अपनी मनपसंद की सब्जी ले जा रहे है | कविता, पूर्णिमा ने बताया कि  लॉकडाउन में  किचन का बजट गड़बड़ा गया था | बाजार खुलने से रहत मिली है | घर में सब्जी खत्म हो गई थी | आलू प्याज भी खत्म हो गया था| प्याज का तड़का न लगने से सब्जी में स्वाद नहीं आ रहा था | वह लगभग 400 रुपए की सब्जी खरीदी है | टमाटर की कीमत में नरमी देखी गई | लॉक डाउन के एक दिन पहले टमाटर 80 रुपए  में बिका था |वही आज आवक के चलते 40 में बिका | इसी तरह करेला 60, भिन्डी 50 रुपए में  बिकी |