तेज आंधी तूफान और ओला वृष्टि से किसानों के माथे पे चिन्ता की लकीर

573

राजेश रायचुरा

जिले में अचानक ओले के साथ बेमौसम बारिश , ने फसल को पहुचाया नुकसान किसानो ने चिंता जताते हुए कहा कि तैयार फसल को बहुत नुकसान हुआ है | अंचल में अंधड़ के साथ तेज बारिश हुई बेमौसम बारिश से खेतो में तैयार फसल को भी नुकसान पहुचा है

धमतरी |शाम अचानक बेमौसम बरसात और ओला वृष्टि से किसानों की माथे पे चिंता की लकीरें साफ देखने को मिल रही है अंचल में हुए  बे मौसम ओला वृष्टि व बारिस होने से किसान मायुस हो गए हैं|आज एकबार फिर किसान अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहा है |लाकडाउन की चुनौतियों के बीच कड़ी मेहनत करके किसान अपनी  तैयार फसल को लेकर  सपने संजो रहे थे उनको  बडा़ झटका लगा है|


एक ओर  कहीं – कहीं  पर फसल  कटाई शुरु हुआ है तो कही पर फसल पूरी तरह तैयार दिखाई दे रहा है, और कही एक सप्ताह के अंदर फसल पक कर तैयार हो जाएगा|

किसानों के साथ चर्चा करने पर किसान दयाराम सिन्हा,गोपालन पटेल,जीवराज साहू,भीखू राम निषाद,अरुण नेताम,लालचन्द साहू,दुर्वासा साहू, उद्दल बांधे, डालेश्वर साहू, घनश्याम साहू आदि ने बताया कि उनकी फसल इस

बे -मौसमआंधी तूफान और ओला के साथ बारिश होने से बहुत अधिक नुकसान हो गया है|
गांव के सरपंच श्री गोपालन पटेल ने कहा कि पहले फसल को देख कर सन्तुष्टि मिल रहा था कि फसल अच्छी हो जायेगी और जिसे बेचकर अपने कर्जों का भुगतान और बेटे बेटियों के विवाह आदि मे खर्च कर पाएंगे| इसके पूर्व मे सरकार द्वारा खरीफ फसल की खरीदी मे विभिन्न परेशानीयों से किसान उबर नही पाया है और अब रबी फसल मे इस बेमौसम ओलावृष्टि और बारिश ने किसानो की कमर ही तोड़ दिया है|एक तो देशभर मे लाकडाउन है दुसरा फसल बुरी तरह से चौपट हो गया है फसल पूरा खेत मे रपट गया है,पके हुए धान की बालियां झड़ गए और बीमारी भी बढ़ेगा हर तरफ से किसानों का नुकसान हो रहा है| गणेश राम बांधे ने कहा कि उनकी धान की फसल की कटाई शुरू हो गया इस ओलावृष्टि ने तो मेरा पूरा फसल बर्बाद कर दिया अब साफ तौर पर देखा जा सकता है कि किसान इस प्राकृतिक आपदा के एक बार फिर शिकार हो गया आखिर इन परिस्थितियो मे किसान के आंसु कौन पोंछेगा|


किसानों ने एक स्वर मे मांग करते हुए कहा कि शीघ्र ही अधिकारीयों से खेतों का मुआयना कराकर मुआवजा प्रदान करे|